|

चर्चा में

4/13/2017 12:00:00 AM

बाबासाहेब डॉ. बीआर अम्बेडकर की बराबरी की सोच को आगे बढ़ायेंगे




कांग्रेस पार्टी की भारत के लिये सोच उन पीछे ले जाने वाले मानदंडों को खत्म करने की है जिसने सदियों से हमारे लोगों को कुचला है और यहां न्यायसंगत और समानता वाले समाज को स्थापित करने की है। पिछले 60 वर्षों में, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने लगातार गारंटी के साथ ऐसा माहौल सुनिश्चित करने और देने का प्रयास किया है जो जीवन की परिपूर्णता को वास्तविकता प्रदान करेंगे, खासकर उन लोगों के लिए जो अभी भी समाज में वंचित हैं।

दुर्भाग्य से, अवसरों की समानता और स्थिति में नियमों को ज्यादातर मानने की बजाय उल्लंघन किया गया था और किया गया है। यह आंशिक रूप से समाज में प्रतिगामी मानदंडों के प्रसार की वजह से और आंशिक रूप से कुछ संगठनों की वजह से था जो भारतीय संविधान में निहित सिद्धांतों के विरोधी हैं। इन पर काबू पाने के लिए और इस देश को समान रूप से सुलभ बनाने का वादा करने के लिए यह जरुरी है कि हम लगातार अध्ययन करें कि आखिर वंचित समूहों के साथ क्यों और कैसे भेदभाव होता है या उन्हें बहिष्कृत किया जाता है।

बाबासाहेब डॉ. बीआर अम्बेडकर की 126वीं जयंती के अवसर पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का अनुसूचित जाति विभाग इस दिशा में प्रयास करते हुए ‘बराबरी की चाह’ प्रस्तुत करते हुए गर्व का अनुभव करता है, जो अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों से संबंधित मुद्दों पर अनुसंधान, आंकड़े और कानून के लिये निश्चित मंच के रूप में सेवा करने के लिए बनाया गया है। ऐसा करने से यह उम्मीद है कि है कि बाबासाहेब डॉ. बीआर अम्बेडकर की समकालीन सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक मुद्दों के महत्वपूर्ण विश्लेषण को प्रोत्साहित करने की भावना को आगे बढ़ाया जा सकेगा।

Quest for Equity के बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें www.questforequity.org

 
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
24, अकबर रोड, नई दिल्ली - 110011,
भारत टेलीफोन: 91-11-23019080 । फैक्स: 91-11-23017047 । ईमेल: connect@inc.in
© © 2012-2013 अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी। सर्वाधिकार सुरक्षित। नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति