| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the press briefing of Ms. Priyanka Chaturvedi 8-3-2017


https://www.youtube.com/watch?v=Mzs_7fw0gH4

Ms. Priyanka Chaturvedi, Spokesperson AICC addressed the media.

 

 Ms. Chaturvedi wished the media a very happy Women's Day on behalf of the Congress Party and for all the women of the country. Congress Party is totally committed to ensure that women have equal access, equal opportunities and equal pay parity as well.

 

श्रीमती प्रियंका चतुर्वेदी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि भोपाल गैस त्रासदी के जो पीड़ित हैं अब उनके लिए भी अगर मुआवजा लेना है तो उसके लिए भी आधार कार्ड देना पड़ेगा। तो हम प्रधानमंत्री जी से पूछना चाहते हैं कि आप बात करते थे सोशल वेलफेयर स्कीम के बारे में, आप बात करते थे वुमेन नर्शिमेंट के बारे में, आप कहते हैं कि हमारे बच्चे ही हमारा भविष्य हैं, हमें उन पर ध्यान देना है, तो ऐसा क्यों है कि अब आधार कार्ड के माध्यम से ऐसी योजनाओं को खत्म करने की कोशिश की जा रही है, जिससे उनको फायदा हो। आप उनके ऊपर एक बांउडरी बनाते हैं कि जिनके पास आधार कार्ड होगा उन्हें ही ये मुआवजा मिलेगा। ये बहुत दुखद स्थिति होगी देश के लिए। हमारी प्रधानमंत्री जी से अपील है कि जहाँ भी पीड़ितो के लिए मुआवजा दिया जाता है, चाहे वो बच्चों के लिए मील की बात हो, वहाँ तो ऐसा ना करें।

अभी LPG सिलेंडर का हमने सुना कि महिलाओं को गैस कनेक्शन के लिए आधार कार्ड देना होगा। महिलाओं को LPG सिलेंडर नहीं देंगे। तो ये योजनाएं जो महिलाओं को प्रभावित करती है, बच्चों को प्रभावित करती हैं या ऐसे पीड़ित जिनके उपर कोई आपदा आई है, उनके उपर आधार कार्ड जैसी बांउडरी लगाना सही नहीं है। ये एक तरह का तरीका है, वेलफेयर जैसी योजनाओं को खत्म करने का आधार कार्ड को माध्यम बनाकर।

 

अभी चुनाव खत्म होने वाले हैं, आखिरी दिन है आज चुनाव का। एक चीज हमारे सामने आई है और सारे मीडिया को उसको गंभीरता से लेना चाहिए, क्योंकि एक बार नहीं बार-बार हुआ है। नोटबंदी के बाद जो अरुणाचल प्रदेश के भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष हैं तापीर गाव, उनको एयरपोर्ट पर सिक्योरिटी ने पकड़ा है। वो कैश लेकर जा रहे थे। मणिपुर में चुनाव प्रचार करने के बाद, वहाँ से लौट रहे थे। जो चुनावी क्षेत्र है, वहाँ से लौट रहे थे, साढे 10 लाख रुपए उनके पास से पाए गए हैं। ये घटना पहली बार नहीं हुई है। पुरे चुनाव के आस-पास ऐसी अनेक घटनाएं हमें देखने को मिली हैं। उत्तर प्रदेश में हमने देखा कि 110 करोड़ कैश बरामद हुआ है, पहले सिर्फ 3 फेज में। गोरखपुर में बीजेपी के लोकल यूनिट ने 250 बाईक चुनावी कैंपन के लिए खरीदी। 18नवंबर  को बीजेपी के मिनिस्टर हैं मुंबई में उनके पास 92 लाख कैश मिला। ये नोटबंदी के बिल्कुल बाद में हुआ है। 8 नवंबर को नोटबंदी हुई थी और 18 नवंबर को इनके पास से नए नोट बरामद हुए हैं। तो ऐसे कई मामले हैं जो सामने आए हैं और प्रधानमंत्री जी को सामने आना चाहिए कि ऐसा क्यों है कि नोटबंदी के बाद आम जनता को इतनी कठिनाई हुई और इनके नेतागण के पास इतना कैश पाया गया? छोटे-छोटे राज्यों में चाहे वो गोवा, मणिपुर या उत्तराखंड हो, इस तरह से कैश बरामद होना, उस पर प्रधानमंत्री जी की जवाबदेही बनती है क्योंकि वो इस तरह की पॉलिसी को लाते हैं, अनाउंस करते हैं। तो इस पर भी जवाब दें कि भारतीय जनता पार्टी क्या करेगी जब उनके नेताओं के पास इतना कैश पाया गया है?

 

सरोगेसी पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में श्रीमती चतुर्वेदी ने कहा कि काफी ऐसी जोड़ियाँ हैं, काफी ऐसे दाम्पति हैं जिन्हें संतान का सुख नहीं मिल पाता। उनके लिए ये सुविधा वरदान जैसा है। इस पर रोक लगाकर उन्हें एक तरह से इस वरदान से वंचित करना है। उन्हें संतान सुख से जबरदस्ती दूर कर देने जैसा है। कानून बनाने से पहले इसपर संवाद होना चाहिए, एक सहमति होनी चाहिए। उसके बाद सरकार को किसी निर्णय पर पहुंचना चाहिए। असलियत ये है कि पॉलिसी के अभाव में - ब्रॉड गाईडलाईन नहीं होने के कारण कुछ गैर-कानूनी कार्य करने वाले डॉक्टरों की तरफ से आती हैं। वो पैसे ले लेते हैं, जो उन महिलाओं को नहीं जाते हैं। तो अगर हम अलग नजरिए से देखें तो जो महिलाएं ये प्रोसेस कर रही हैं, उनको उनका अधिकार मिलना ही चाहिए - जो मिनिमन कॉम्पनसेशन होता है, देखभाल होती है। परिवारिक रिश्तों से जोड़कर या परिवार किस तरह से होना चाहिए। अगर आप सिर्फ अपनी सोच लोगों पर थोपेंगे तो महिलाओं को उनको अधिकार नहीं दे पाएंगे। तो ये जो बैन है वो बगैर सोचा-समझा है। एक तरह से हर जगह बैन लगा देना बिना सोचे समझे, वो सही नहीं है। एक पॉलिसी होनी चाहिए इसके लिए।

 

महिला आरक्षण बिल पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में श्रीमती चतुर्वेदी ने कहा कि मैं खुद यूथ कॉंग्रेस में आरक्षण की वजह से आई थी। कांग्रेस पार्टी में हर जगह महिलाओं के लिए  जगह सुरक्षित है। दूसरी बात आरक्षण पर सुषमा स्वराज जी ने कांग्रेस पार्टी को लेकर कहा तो हम सुषमा जी से पूछना चाहेंगे कि उनकी पार्टी ने कितनी महिलाओं को आरक्षण दे दिया है, कितनी जगहों पर उन्होंने 33 प्रतिशत रिजर्वेशन दिया है, महिलाओं को? आज प्रधानमंत्री जी महिला दिवस पर कहते हैं कि हम सम्मानता चाहते हैं महिला और पुरुष की। तो हम उनसे पूछना चाहते हैं कि जब आप सम्मानता की बात करते हैं तो उनका रिप्रेजंटेशन संसद में क्यों नहीं देते हैं? क्यों ये प्रधानमंत्री जी के लिए प्राथमिकता नहीं है? प्रधानमंत्री जी ने लैंड ऑर्डिनेंस में पूरी दिलचस्पी दिखाई। तो महिलाओं के अधिकारों को लेकर क्यों नहीं बोलते हैं? महिलाओं को लेकर उन्होंने चुनावी मुद्दा बनाया था तो 33 प्रतिशत रिजर्वेशन की जिम्मेवारी आज भारतीय जनता पार्टी की भी बनती है। सिंगल लार्जेस्ट पार्टी बनकर आए हैं तो वो अपने वायदे पर खरा उतरें और उसे पूरा करें।

 

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बयान पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में श्रीमती चतुर्वेदी ने कहा कि नतीजों पर पहुंचना प्रधानमंत्री जी का ट्रेड मार्क हो गया है। जांच खत्म नहीं होती है, प्रधानमंत्री जी जवाब दे देते हैं। लेकिन हम उम्मीद करेंगे क्योंकि ये राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा है, संवैदनशील मुद्दा है। जब वहाँ के मुख्यमंत्री इस तरह की बात करते हैं तो उनके पास पुख्ता सुबूत होंगे, एविडेंस होंगे जिसके आधार पर उन्होंने ये बात की है। जो भी है जांच से ये पता चल ही जाएगा। लेकिन एक बात स्पष्ट है कि कहीं ना कहीं इंटेलिजेंस फेल हुआ है कि पहले मध्यप्रदेश में घटना हुई, फिर उत्तर प्रदेश में हुई, तो इसकी पुख्ता जांच होनी चाहिए। इंटेलिजेंस ऐजेसिंज अलर्ट पर होनी चाहिए। आजकल जो राष्ट्र की सरकार है वो अपना जमावड़ा उत्तर प्रदेश में चुनाव के वजह से करके बैठी थी - चाहे वो रक्षा मंत्री हों, गृहमंत्री हो, प्रधानमंत्री तक का ध्यान चुनाव जीतने में हैं, राष्ट्रीय सुरक्षा में नहीं।

 

On the stand of the Congress Party on surrogacy, Ms. Chaturvedi said our stance is that one should not look at it through narrow perspective of family values. I remember Ms. Sushma Swaraj by taking a stance, is trying to pull down a lot of people who have chosen that route. I think what more important is, we do not as of now have a policy in place. We need to debate and discuss it so that we can have more broader and acceptable policy which does not deny lots of couple who are looking for children, lots of people who would make for parents but do not have that option. We should be able to give them that opportunity but at the same time ensure that women who are carrying that entire pregnancy of nine months is well looked after, well compensated. Let us not narrow down our walls. Please ensure that we give everyone an opportunity and for many women, this was the way of earning money and supporting their families. So ensuring that these women are well looked after should be guiding principle of the Government.

 

On the question of IS spying on Indian Army in Madhya Pradesh and politicizing it, Ms. Chaturvedi said it is extremely unfortunate to pin the blame on the Congress Party for politicizing any such issue. We noticed how the Prime Minister has spoken about the investigation which is going on in the Kanpur Train accident and then NIA is also investigating, we would not want to jump the gun.  So, reaching to conclusion has become the trademark of the BJP Government. We cannot also deny the fact that in MP recently when ISI agents were caught on spying on the Indian Army, some of them also hold a position in the BJP. So, questions do arise but again these are topics of national importance and national security and we need to tread cautiously and we need to ensure that whosoever is behind this is caught swiftly and in a manner where intelligence agencies are being given total command rather than allowing others especially Prime Minister to make a comment on it without investigation being completed.


 
Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap