| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the press briefing along with youtube link of Shri Ghulam Nabi Azad, MP and Shri Mallikarjun Kharge, MP 12-4-2017

Created on Wednesday, April 12, 2017 12:00 AM https://www.youtube.com/watch?v=yWUqlcrbWZE

Shri Ghulam Nabi Azad, MP & General Secretary, AICC and LoP in Rajya Sabha, former Union Minister & Sr. Spokesperson, AICC and Shri Mallikarjun Kharge, MP and Leader of Congress Party in Lok Sabha, former Union Minister addressed the media.

श्री गुलाम नबी आजाद ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे बहुत पुराने साथी श्री अखिलेश दास जी, जो यूपीए वन में हमारे साथ केन्दीय मंत्री थे, 2-3 बार राज्यसभा के सदस्य भी थे। उनका आज सुबह देहांत हो गया। हम उनको अपनी तरफ से और कांग्रेस पार्टी की तरफ से श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं और उनके परिवार को अपनी संवेदना व्यक्त करते हैं।

इस बजट सत्र में राज्यसभा में हमने तकरीबन 10 बिल पास किए, GST जिसमें सबसे बड़ा था। हमने सभी बिलों मे सहयोग दिया सरकार को। लेकिन जहाँ – जहाँ भी हमें लगा कि लोकसभा में अपने भारी बहुमत की वजह से उन्होंने बुलडोज किया है, वहाँ हमने राज्यसभा में उन्हीं बिलों में संशोधन किया और विशेष रुप से फाईनेंस बिल में हमने 4 संशोधन पास किए और अच्छे बहुमत से लगभग 30-40 वोट हमें एनडीए से ज्यादा मिले। दूसरी बात है कि उन्होंने लोकसभा में जाकर वही किया। इस तरह से सरकार का ध्यान हमने आकर्षित करने का प्रयास किया, जीरो ऑवर में भी किया, शॉर्ट ड्यूरेशन में भी किया। सभी विपक्ष के कहने पर उस पर चर्चा हुई। आधार बिल पर विपक्ष के कहने पर शॉर्ट ड्यूरेशन में चर्चा हुई। इस पूरे सत्र में जो आज जाकर खत्म हुआ, उसमें विपक्ष की भूमिका बहुत ही अच्छी रही और मिलकर सभी विपक्ष ने काम किया।

हमने पिछले सत्र और इस सत्र में देखा कि राज्यसभा में विपक्ष का बहुमत और विपक्ष की संख्या ज्यादा होने की वजह से कहीं ना कहीं सरकार राज्यसभा को बाईपास करने का हमेशा प्रयास करती रही और जो मनी बिल नहीं होते हैं, उनको मनी बिल घोषित किया गया। अगर उसमें संशोधन भी लाएंगे तो लोकसभा में उसको वो वापस कर देते हैं। तो ये चालाकी सरकार करती आई है पिछले 3 सालों से।

हमने आज राष्ट्रपति जी को जो मेमोरेंडम दिया है, उसमें कई चीजों के प्रति राष्ट्रपति जी का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश की है। उसमें ये बिंदु भी है कि किस तरह से ये सरकार राज्यसभा को कमजोर करने का प्रयास कर रही है, बाईपास करने का प्रयास कर रही है। राष्ट्रपति जी के सामने जो मुद्दे हमने रखे वो आपके बता दिए हैं।

13 राजनीतिक दल थे जो गए थे- कांग्रेस पार्टी से सोनिया गाँधी जी, राहुल गाँधी जी, हम दोनों थे, CPM के,  CPI के थे, सतीश मिश्रा जी थे बीएसपी के, JD(U) से शरद यादव जी थे, SP के धर्मेन्द्र यादव जी थे, इसी तरह से RJD थे, TMC के दो सदस्य राज्यसभा से थे, DMK से थे, तो तकरीबन हम सबने मिलकर जो देश के हालात हैं उसकी तरफ राष्ट्रपति जी का ध्यान दिलाया कि किस तरह से विपक्ष की आवाज को हर जगह दबाने की कोशिश की जा रही है, अनसुनी की जा रही है। विपक्ष को दबाने के लिए जो हथियार इस्तेमाल किए जा रहे हैं, CBI, ED, Income Tax का इस्तेमाल करके भूतपूर्व मुख्यमंत्रियों पर, विपक्ष के मुख्यमंत्रियों पर किया जा रहा है, कानूनी व्यवस्था का जो माहौल है, वाईलेंस हैं। कई लोगों को जिंदा जला दिया जाता है, पेड़ से लटका दिया जाता है, कुछ लोगों ने हाथ में कानून लिया है और उन सबका संबंध रुलिंग पार्टी, बीजेपी से है।

अलवर राजस्थान की अभी मिसाल देखी, झारखंड में कितनी दर्जनों घटनाएं हुई, उधमपुर में ट्रक में आग लगा दी, ड्राईवर और कडेंक्टर को जला दिया, जब ट्रक में देखा तो कोयले थे। उसमें ड्राईवर की मौत हो गई थी। गुजरात में कई घटनाएं हुई, दादरी में कई घटनाएं हुई। कानून को बाईपास करके कई निर्णय लिए जाते हैं। बिल के बारे में बताया कि कैसे कानून को बाईपास किया जाता है। किस तरह से गवर्नर को इस्तेमाल किया जाता है, Minority MLAs को Majority बना दिया जाता है। अरुणाचल प्रदेश में किस तरह से स्पीकर को चुन लिया और बाद में मुख्यमंत्री को चुन लिया। ये शायद विश्व के इतिहास में पहली मिसाल है। किस तरह से उत्तराखंड में हमारे लोगों को खरीद लिया और सरकार तब भी नहीं मिली। मणिपुर, गोवा में कैसे बीजेपी ने सरकार बनाई। गवर्नरों ने बीजेपी की सरकारें बनाई। किस तरह से हमारी सांस्कृतिक संस्थाओं पर हमला किया जा रहा है, आईआईएम की Autonomy है उसको खत्म किया जा रहा है। किस तरह से नेहरु मेमोरियल म्यूजियम और लाईब्रेरी में उन लोगों को पिछले दरवाजे से लाया जा रहा है, जिनका भारत की स्वतंत्रता से, आजादी से कोई लेना-देना नहीं है, उस सोच के लोगों को लाया जा रहा है। जबकि नेहरु मेमोरियल म्यूजियम में 20 प्रतिशत नेहरु जी पर और 80 प्रतिशत जो स्वतंत्रता के संघर्ष था उसको बताया जाता रहा है। स्वतंत्रता के संघर्ष पर स्टडी की जाती है। जो लोग स्वतंत्रता के खिलाफ थे, जिनको कुछ मालूम नहीं है उनको वहाँ बिठाया जा रहा है।

कश्मीर के हालात के बारे में हमने बताया कि किस तरह से राज्य सरकार और केंद्र सरकार असफल रही है। उसका सबसे बड़ा कारण है कि संसद में कई बार पिछले साल चर्चा हुई और उसके बाद सरकार ने विपक्ष की मांग मान ली कि ऑल पार्टी डेलिगेशन जाना चाहिए गृह-मंत्री के नेतृत्व में और उसके बाद उनका बयान आया कि केन्द्रीय सरकार द्वारा सभी राजनीतिक दलों से और स्टेक होल्डर्स से बात की जाएगी। पिछले साल अगस्त में ये डेलिगेशन गया और आज दूसरे साल का अप्रैल खत्म रहा है लेकिन सरकार ने कोई प्रयास नहीं किया तमाम राजनीतिक दलों से या अन्य से। यही कारण है कि जो गुस्सा है लोगों का सरकार के प्रति जिसकी वजह से 7 प्रतिशत वोटिंग हुई है। पूरी तरह से केन्द्रीय सरकार असफल हुई है जम्मू-कश्मीर के हालात ठीक करने में। इसलिए हम माननीय राष्ट्रपति जी से मिले और निवेदन किया कि लोकतंत्र में जो हमारे हक हैं उनका संरक्षण करें और देश में रुल ऑफ लॉ दुबारा लागू करने में राष्ट्रपति जी को कदम उठाना चाहिए।

श्री मल्लिकार्जुन खड़गे ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि श्री गुलाम नबी आजाद जी ने आपको विस्तार से बताया सभी बिलों के बारे में। खासकर राज्यसभा में जो हुआ, उसके बारे में, फिर ऑल पार्टी डेलिगेशन जो आज राष्ट्रपति जी से मिले, तमाम मुद्दे आपके सामने रखे।  

लोकसभा में 16 बिल पास हुए और कम से कम 7 विषयों पर चर्चा हुई। खास कर Motion of Thanks to the President पर चर्चा हुई। फिर Payment of Wages Act पास हुआ,  उसके बाद में, General Budget-2017-18, Maternity Benefit Bill, Jurisdiction of Settlement  of Maritime Trades Bill भी पास हुआ। Enemy Property पास हुआ। डिमांडस फॉर ग्रांट जो रेलवे का अलग से बिल रहता था, वो भी जनरल बिल में मिलाने पर चर्चा हुई। उसमें कम से कम 10 कांग्रेस पार्टी के सदस्यों ने अपना मत पेश किया और उन पर अपनी राय बताई। डिमांडस ऑफ ग्रांट ऑफ एग्रीकल्चर बहुत बड़ा मुद्दा है, जिस पर हमने चर्चा की। डिमांडस फॉर ग्रांट ऑफ डिफेंस ये मुद्दा भी हमने उठाया, उस पर चर्चा की। डिमांडस फॉर ग्रांट ऑफ होम अफेयर, सप्लिमेंट्री डिमांडस फॉर ग्रांट, फाईनेंस बिल पर बहुत चर्चा चली और हमने इसके लिए कई ओब्जेक्शन किए, कम से कम 10-15 एक्ट को उन्होंने मनी बिल में कनवर्ट करके राज्य सभा में वो नहीं पेश करना चाहते थे, उसको यहाँ पर लाए। हमने उसके बारे में कहा लेकिन मेज्योरिटी उनकी रहने की वजह से वो पास करके चले गए। कॉन्सिटिट्यूशन ऑडर अमेंडमेंड बिल पास हो गया। मेंटल हेल्थ केयर बिल पास हुआ। नेशनल आईटीएसी एंड रिसर्च बिल पास हुआ। GST के 4 बिल पास हुए और हमने हिस्सा लिया और अपनी राय सदन में रखी और सरकार उसको पास करवाने में कामय़ाब रही। हमने उसको दुरुस्त करने को कहा। कलेक्शन ऑफ स्टेटिस्टिकस एक्ट पास हुआ। फुटवेयर डिजाईन एंड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट बिल, टेक्सटाईल बिल, कॉन्सिटिट्यूशनल 123 अमेंडमेंट बिल पास हुआ है, राज्यसभा में गया। उसमें भी कुछ कमियाँ थी उसको दूर करने को कहा। मोटर एंड व्हिकल बिल पास हुआ। कम से कम 16 बिल पास हुए। छोटे-मोटे संशोधन हमारे थे उनको नकारा गया उसके बाद भी देशहित में जो था उसमें योगदान दिया। हमेशा विपक्ष के उपर ये आरोप लगाया जाता है कि वो सदन की कार्यवाही को रोकने की कोशिश करती है। लेकिन हम हाउस चलाना चाहते थे, चर्चा चाहते थे। लेकिन वो इसमें interested नहीं थे। जिन विषयों में गहन चर्चा चाहिए थी, उसका मौका नहीं मिला। लेकिन उसके बाद भी हमने देशहित में बिलों को पास किया।

उसके अलावा जीरो ऑवर में जो उनके पार्टी के लोग, नेता लोग जो खासतौर से देश के साउथ-नोर्थ में, क्या खाना-पीना, कैसे रहना, गलत बयानबाजी, उसके बारे में भी हमने आवाज उठाई। आरबीआई के बारे में चीजें सदन के सामने रखी। जितनी चर्चा होनी चाहिए थी, उसकी कमी रही इस सत्र में।
 

On the stand of the Congress Party on the statement of Mr. Moily on EVMs, Shri Azad said that the entire opposition including Congress Party leaders are united on this issue that something is wrong with the EVMs, and the malfunctioning, the errors have to be satisfactorily addressed which is why we went to the Commission and in today's Memorandum to the Hon'ble President of India, there is also a mention of this. Mr. Moily himself has signed this memorandum and was a part of the delegation.  

 
Indian National Congress, 24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in © 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved. Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap