| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the press briefing of Shri Anand Sharma, MP 01-05-2017

https://www.youtube.com/watch?v=-autyEBq2ms&feature=youtu.be

श्री आनंद शर्मा ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के ऊपर भारत की सेना की दो चौकियों पर हमला औऱ उसके साथ-साथ दो जवानों की हत्या करना, अपमान करना एक कायराना हरकत पाकिस्तान की तरफ से हुई है, जिसकी हम भर्त्सना करते हैं। शब्द कम पड़ जाते हैं ऐसी घटना की निंदा करते हुए। पाकिस्तान को ये समझना होगा कि इस तरह के हमलों से उनके अपने देश के अंदर के हालात किसी भी तरह से सुधर नहीं सकते। ये उनके हित में है कि इस तरह के हमले और आतंकवाद को सरंक्षण और प्रोत्साहन देना बंद करे। भारत के लिए अवश्य ये चिंता का विषय है कि 29 सिंतबर को भारतीय सेना के द्वारा जो पुख्ता कार्यवाही की गई सर्जिकल स्ट्राईक के माध्यम से, उसके बाद एक बार फिर जो आंतकवादी संगठन हैं वो गतिशील है, हमले कर रहे हैं और पाकिस्तान की सेना, उनका प्रशासन खासतौर पर जहाँ तक आईएसआई का संबंध है वो ऐसी घटनाओं को समर्थन दे रहे हैं। 29 सितंबर के बाद 6 बड़े हमले भारत पर हुए हैं, हमारी सेना के ठिकानों पर और आज की घटना को मिलाकर अफसर और जवानों को देखते हुए 41 लोग शहीद हो चुके हैं। इसलिए स्वाभाविक है और चिंता का विषय है कि निरंतर हमारे अफसर और जवान शहीद हो रहे हैं और ऐसी कोई रुपरेखा सामने नहीं आ रही है जिससे इसको रोका जा सके और ऐसे हालात पैदा हो सकें जिससे शांति और सुरक्षा पुन: कायम हो।
 

Shri Sharma said the country has seen yet another act of outrage by the Army of Pakistan, unprovoked firing, killing of 2 of the soldiers and the mutilation of their bodies deserves to be condemned firmly and Pakistan also must realize that these actions are unacceptable in the civilized society and they are not conducive to Pakistan's own interest, its own security and the welfare of its people.

I have said this now, looking at the number; it is a matter of grave concern to us. The situation in the Valley, the continuing attacks after we thought that Pakistan would have realized after India's firm strike on the 29th of September to desist from such dastardly acts but there have been six major attacks on the Army Camps and 41 of our officers and soldiers of the Indian Army have been martyred, they have been killed in these attacks.

The Indian National Congress salutes the bravery of Indian Armed Forces and while conveying its condolences to the families of the officers and soldiers who lost their lives makes it very clear that when it comes to terrorism or unprovoked attacks on the Indian Armed Forces, this country stands and speaks in one voice.

काफि विषय वर्तमान में चर्चा में है। विशेषतौर पर अगर देश के हालात देखें चाहे वो आर्थिक विकास से जुड़े हैं या आंतरिक सुरक्षा से। देश के अंदर एक वातावरण है, सामाजिक तनाव का, भय का और आतंक का। ये आवश्यक है भारत के लिए कि संवैधानिक प्रजातंत्र बना रहे, मजबूत रहे और देश में कानून का राज रहे। किसी भी संगठन या व्यक्ति को ये अधिकार नहीं कि वो कानून अपने हाथ में ले और ये तय करे कि देश के नागरिकों के साथ इस तरह का व्यवहार किया जाना चाहिए। एक सभ्य देश के लिए, एक बड़े प्रजातंत्र के लिए विश्व में हमारे सम्मान और छवि को मद्देनजर रखते हुए ये गहरी चिंता का विषय है कि देश में निरंतर घटनाएँ हो रही है, देश की राजधानी के अंदर, अन्य राज्यों में, बड़े नगरों में और जो व्यक्ति या संगठन इस तरह की घटनाएं कर रहे हैं, देश के ही नागरिकों पर हमला कर रहे हैं, उनकी जान ले रहे हैं चाहे वो राजस्थान, हरियाणा, मध्यप्रदेश, दिल्ली, असम में हुआ और वहाँ की सरकारों ने उस पर कोई कार्यवाही नहीं की, जिससे दोषियों को दंडित किया जा सके और समाज के कमजोर वर्ग आश्वस्त हो सकें कि देश का कानून और यहाँ का शासन और प्रशासन किसी भी गैर कानूनी हिंसा, हत्या और हमले को स्वीकार नहीं करता।

प्रधानमंत्री जी की चुप्पी बड़े दुर्भाग्य की बात है। प्रधानमंत्री जी का ये कर्तव्य बनता है, दायित्व बनता है उनके पद की शपथ जो उन्होंने ली है, उस पर अपने मन की बात बताएं, अधिकांश राज्यों में जहाँ बीजेपी की सरकारें हैं, उनकी जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। हमारा आग्रह प्रधानमंत्री जी से बार-बार रहा है कि जब तक वो स्वयं इन घटनाओं की निंदा ही नहीं उन पर सख्त कार्यवाही नहीं करेंगे तब तक ये घटनाएं जारी रहेंगी। जिससे देश की छवि दुनिया में धूमिल हो रही है। अगर ऐसे हालात देश में बने रहते हैं तो आर्थिक विकास संभव नहीं होगा। सामाजिक तनाव, हिंसा, भय का वातावरण और निरंतर अपराध होना किसी भी देश में विश्वास को बढ़ाता नहीं है, दूसरे देशों के नागरिकों का और विशेष तौर पर जब बात आर्थिक दृष्टिकोण से निवेश की और प्रगति की बात की जाए।

Shri Sharma further said it is important that Prime Minister Shri Narendra Modi who speaks on every subject speaks about what is happening in India. His silence is deafening and most unfortunate. Neither the Prime Minister nor the Home Minister have assured the country that this Government will not allow what is happening on a daily basis in one or the other State of India, in one part or the other part of India.

India's constitutional democracy must be defended. India's pluralism must be respected. We are a multi-religious, multi-lingual and multi cultural society. We are also a country which is rule based and rule governed. The Ruling Party has a greater responsibility and accountability. Therefore, the Prime Minister must tell the country what action he proposes to take? You cannot have criminal elements, lumpens, anti-social elements let loose on the citizens of the country. This is affecting India's image besides nurturing an environment of fear and insecurity in India.  

Shri Sharma also said we are very clear that there cannot be any growth possible, any development possible without peace and stability which unfortunately is not there in the country today. Stability does not only mean political stability, stability means social stability, lack of violence, absence of crime and the Rule of Law. That is under assault in India today in a very organized manner, in a very concerted manner and it will have long-term consequences for India and that is why, we are asking the Prime Minister directly today. He must explain his silence and why his 'Mann-ki-Baat' does not include what is national concern on a situation of crises in India today.   

I will go as far as to say that by remaining silent, it is being misconstrued as tacit endorsement by the Prime Minister and the Home Minister and an encouragement to such elements. Otherwise what prevents the Home Minister of India to tell the concerned Chief Ministers to give report about the action taken, the clear message must go to such elements in the country. I would also like to say here that in the recent times, tragic and unfortunate incident which continue to take place which I have referred to begin with.

The real issues are getting lost in this din and the Government is getting carried away by its own propaganda and there is a misplaced euphoria about growth and development. The Prime Minister and his Ministers are busy beating their own drums about India's growth. India has remained a fast growing economy for the last 13 years to be precise but the picture which is being presented by the Government is false. By their own estimates, not going by the CSS, who have given a revised GDP Number of 7.1% but the official Number after Q3 or 3rd Quarter of 2016-17 Financial Year of GDP growth, it is projected at 6.6%. The final Numbers will come in when the loss to the informal sector post November 8 demonetization will be counted but by changing the methodology the performance does not improve. If you give different marks for the same performance to different students, it is not considered to be an honest marking system.

If you go by the old methodology of the calculation of the GDP, then India's GDP growth is 4.6%. This is the actual story pre-2014 - old methodology.

Therefore, I demand that the Government immediately publish the GDP figures of India from 2004 onwards until 2016-17 - both as per the previous methodology and by the new methodology so that the country understands where we stand. I say it with full sense of responsibility that the growth is flat. The basic parameters on which you can calculate the growth - Investment, Credit Off-take, Capital formation, Creation of New Assets, Industrial Assets and Job Creation. India's credit off-take has hit lowest since 1952. Day before yesterday the official numbers have come that Non-Agriculture Industry credit off-take is (-) 1.59% - it is in the negative – not even in the positive. The Gross Capital Formation is in the negative.
 

The existing Industrial capacity is not being utilized. 1/3rd is lying idle. For the GDP growth to be sustained at 6-1/2%, Private Sector Investment is not going in the economy. The Government must invest minimum 8% of the GDP. The Government's investment is only 1.8% despite tall claims of the Prime Minister and the Finance Minister. Let the Finance Minister contradict us. Why the Government is not investing when the private sector is not in a position to invest and the numbers are speaking for themselves. It is also a matter of serious concern that there is an alarming dip in the National Investment Rate during 35 months of Shri Narendra Modi's tenure as Prime Minister.

The National Investment Rate has fallen from 34% to 26.9%. There is 7% fall in National Investment Rate and by the Government's own account, in six months of last year, the first quarter they were able to create 72,000 jobs and in the second quarter, just 37,000 jobs.

केवल 1 लाख 9 हजार नौकरी 6 महिनों में पिछले साल सरकारी आंकड़े कहते हैं कि पैदा हुई। आंकड़े ये भी बताते हैं कि 1 करोड़ 20 लाख भारतीय, 12 मिलियन भारतीय नौकरियाँ मार्किट में आई। सवा करोड़ नौजवान रोजगार मांग रहा है और इस सरकार का अपना वायदा था, प्रधानमंत्री जी का स्वंय का एक साल में 2 करोड़ रोजगार का। इसके साथ-साथ जो उद्योग लगे हैं उसकी एक तिहाई कैपेसिटी इस्तेमाल नहीं हो रही है। उसमें लाखों रोजगार टूटे हैं। इन बातों का जवाब कौन देगा? एक ऐसा वातावरण बन गया है कि यहाँ पर सिर्फ प्रोपोगेंडा हो रहा है। वायदाखिलाफी की बात कोई नहीं कर रहा है और सरकार की जवाबदेही और प्रधानमंत्री जी की अपनी जवाबदेही की बात कोई नहीं कर रहा है। ये मिथ्या प्रचार सरकार बंद करे और भारत की अर्थव्यवस्था चरमरा रही है उसके स्वास्थय लाभ पर काम करे। जो आपके समक्ष रखा है ना ही वित्त मंत्री, ना ही उनके आर्थिक सलाहाकार, ना ही प्रधानमंत्री जी इसको नकार सकते हैं। इसलिए हमने ये कहा कि जिस सरकार और जिस प्रधानमंत्री को प्रोपोगेंडा के माध्यम से प्रचंड प्रचारतंत्र से काफी कामयाबियाँ मिली हैं, बेहतर होगा कि इन विषयों पर भी वो अपने मन की बात कहें। केवल लाल बत्ती गाड़ी से हटाने से प्रधानमंत्री जी जो एक खतरा भारत पर मंडरा रहा है और जो वातावरण देश में मंडरा रहा है असुरक्षा का, भय का और आंतरिक सुरक्षा टूट चुकी है देश के अंदर, वो केवल कश्मीर की घाटी से जोड़कर बात ना करें, पूरे भारत के संदर्भ में हम कह रहे हैं, उसके बारे में प्रधानमंत्री जी क्या कहना चाहते हैं, देश सुनना चाह रहा है।
 

On the question of situation after the surgical strike, Shri Sharma said the government's policy on J&K has been a disaster marked by political opportunism. This Government lacks any comprehension of the situation, it has allowed the situation to deteriorate and go completely out of control because of its sheer lust for power, political opportunism and the formation of a Government which was ignoring the realities when it comes to the internal security challenges in that Region.
 

Secondly, State which has seen a surge in tourism and a record number of tourists were going to Kashmir Valley both Indian and foreign tourists – where the people of Kashmir had opened their hearts and homes and even the Hotels could not accommodate the number of tourists who were going there until 2014, in fact people were converting part of their homes to accommodate the tourists. Therefore, what is happening today, the situation has to be reversed. This situation cannot be allowed to drift any further.
 

On the question on thje lawlessness in the States across India, Shri Sharma said I am talking of everyone vigilantes, gau-rakshaks, anti-romeo squads, who has given them the authority. There is a rule of law in this country. We are a constitutional democracy and why Prime Minister has never spoken about these matters? It is shocking. The State Governments which are BJP State Governments are deliberately creating an environment, communal conflict and communal division which will not be in the interest of India and in particular India's internal security. It is not a question of who affected people and who the targets are. Each citizen of India has the same rights under the Constitution and law and therefore, the Prime Minister is duty bound to uphold the constitutional democracy and his Government has accountability when it comes to ensuring the rule of law. 
 

To be a majority Government that means that you have a majority in the Lok Sabha, that is true and an undisputed fact but the fact also is that in our electoral system and multi-party system, people cast their votes to many political parties and the great victory of the Prime Minister which we have accepted way back in 2014, there is also 69% of the voters who voted but voted against. So, the electoral majority does not give Shri Narendra Modi or the BJP the right to convert India into a majoritarian democracy. That will be the unraveling of the very 'Idea of India' as a Constitutional democracy.
 

एक प्रश्न पर कि जिस तरह से पाकिस्तान की तरफ से बॉर्डर एक्शन टीम की बर्बरता सामने आई है, उस पर क्या कहेंगे, श्री शर्मा ने कहा कि नॉर्दन कमांड की जो प्रैस विज्ञप्ति है उसमें स्पष्ट कहा गया है कि उन्होंने हमारी सीमा के अंदर आकर हमारे 2 जवानों को बड़ी बर्बरता से मारा है। ये बहुत गंभीर घटना है। तभी हमने कहा कि 29 सितंबर के बाद अब तक 6 बड़े हमले हुए हैं जिसमें अफसरों हैं, कप्तान भी शामिल हैं, मेजर भी शामिल हैं, आज भी देश में मारे गए हैं, 41 जवान देश में शहीद हुए हैं। हम इस पर ना राजनीतिकरण करना चाहते हैं और ना दोषारोपण करना चाहते हैं, लेकिन एक बात स्पष्ट है कि आज भी सीमा के उस पार जो आतंकवादी संगठन हैं वो आज भी कायम है, उनकी जड़ें मजबूत हैं और उनको समर्थन प्राप्त है। ये हमला कायराना है और चौंकाने वाला भी है, पाकिस्तान ने कोई सबक नहीं लिया। आज भी वहाँ की आईएसआई, वहाँ के संगठन अमादा है इस पर कि इस तरह के हमले भारत पर होते रहें। इसलिए इस पर सरकार को देखना है कि कैसे इस पर रुपरेखा बने। प्रधानमंत्री जी ने कभी भी विपक्ष के नेतृत्व को विश्वास में नहीं लिया, कभी चर्चा नहीं की। कुछ विषय ऐसे होते हैं जिनमें सरकार की जिम्मेवारी बनती है आम सहमति बनाने की। प्रधानमंत्री जी ने आज तक कोई प्रयास नहीं किया इन गंभीर विषयों पर बैठकर बातचीत करने का। जो आपने प्रश्न किया वो सही है, निरंतर लोग मरते रहें, ये केवल गिनती की बात नहीं है। 35 महिनों में 201 जवान शहीद हुए हैं, जो अफसर और जवान शहीद हुए हैं, इसलिए ये राष्ट्रीय चिंता का विषय है। जो हमने बड़ा काम किया हमारी सेना ने 29 सितंबर को उसके बाद उनकी हिम्मत नहीं होनी चाहिए थी, लेकिन उसके बाद भी वो निरंतर हमले कर रहे हैं, ये गहरी चिंता का विषय है। देश का विषय है, ये भारत के लिए चिंता का विषय है। हम इसकी घोर निंदा करते हैं। कोई भी सभ्य समाज इसकी अनुमति नहीं दे सकता, जो पाकिस्तान की सेना ने आज किया है। हमें पूरा विश्वास है कि भारत की सेना सक्षम है इसका जवाब देने में और वो जरुर जवाब देगी।
 

एक अन्य प्रश्न पर कि गुजरात बीजेपी सांसद केसी पटेल पर लगे आरोपों पर क्या कहेंगे, श्री शर्मा ने कहा कि इस पर गृहमंत्री जो को स्पष्टीकरण देना चाहिए। प्रधानमंत्री जी तो स्वयं बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की बात करते हैं। अगर इस तरह की घटनाएँ हों तो इस पर कानूनी कार्यवाही होनी चाहिए। आज देश में ये हो रहा है कि जो लोग घायल हो रहे हैं, जिनको पीटा जा रहा है, किसी को भी कानूनी अधिकार नहीं है ऐसी घटनाएं करने का, उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं होता। जिन लोगों को पीटा जाता है, जो अपने व्यवसाय में लगे हैं, रोज हो रहा कि उनके खिलाफ एफआईआर हो रही है। ये एक ऐसा विषय है जिस पर मैंने बड़े विस्तार से टिप्पणी की है।
 

एक अन्य प्रश्न पर कि जम्मू-कश्मीर सीमा पर हो रहे हमलों को लेकर क्या आप मांग करते हैं प्रधानमंत्री जी से कि सभी विपक्षों दलों को साथ लिया जाए, श्री शर्मा ने कहा कि मैंने कहा है कि प्रधानमंत्री जी का दायित्व बनता है कि प्रमुख विपक्षी दलों के नेतृत्व को विश्वास में लें, ये राष्ट्रीय चिंता के विषय हैं। ये राजनीति का विषय नहीं हैं, इसलिए देश एक जुबान में बोलता है। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने कभी भी उस भाषा और शैली का इस्तेमाल नहीं किया जो श्री नरेन्द्र मोदी और बीजेपी ने किया, ऐसी कुछ घटनाओं के बाद उस समय के प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह जी या कांग्रेस यूपीए सरकार के बारे में कहा। हम पुरानी बातों में जाना नहीं चाहते। आज समय की आवश्यकता है, मांग है कि प्रधानमंत्री जी विपक्ष के नेतृत्व से बैठकर विश्वास में जरुर लें कि कौन सी रुपरेखा सरकार के सामने हैं, दो चीजों पर, एक तो जो कश्मीर में हो रहा है, सीमा पार से जो हमले हो रहे हैं, उसको नियंत्रण में लाया जाए और दूसरा देश की आंतरिक सुरक्षा और बाकि देश में जो रहा है उसको हम नजरअंदाज नहीं कर सकते, एक के बाद एक राज्य में जो हो रहा है। पूरी तस्वीर अगर देखें तो वो बहुत चिंताजनक तस्वीर है भारत की। इसलिए प्रोपोगेंडा, विज्ञापन, दावे करना बंद करे और शासन-प्रशासन को चुस्त करें वो बेहतर होगा। 


 
Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap