| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the press briefing along with youtube link of Ms. Shobha Oza, Spokesperson, AICC 15-5-2017


https://www.youtube.com/watch?v=mtPxmtCWz0Q


श्रीमती शोभा ओझा ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि  सबसे पहले तो हम संवेदना व्यक्त करते हैं आदरणीय राम मोहन राय जी के निधन पर जो कि फोर्मर प्रिसिंपल इनफोर्मेशन ऑफिसर थे। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे और उनके परिवार को इस संकट के समय हिम्मत दे। उनका जाना अपने आप में बहुत बड़ा लोस है इनफोर्मेशन सर्विसिज के लिए। आदरणीय राव साहब पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गाँधी जी के साथ भी काम कर चुके हैं और सब उनके सहयोग को भी अच्छे से जानते हैं। हम सब उनकी महान् आत्मा को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।
 

बहुत ही विचलित करने वाला जिस दौर से हरियाणा गुजर रहा है, जो हरियाणा के हालात हो गए हैं, जो आपने सबने सुना होगा, रोहतक गैंगरेप केस हुआ है। कल मैं स्वयं सोनीपत गई थी और वो बेटी सोनीपत की थी, जिसके साथ इतना जघन्य रेप और मर्डर हुआ। वहाँ जाकर रोंगटे खड़े हो गए जब उस बेटी के माता-पिता से चर्चा हुई और साफ तौर से हरियाणा में जो चल रहा है, जिस स्थिति में आज हरियाणा है, वो बहुत ही चिंता का विषय है कि प्रदेश में रोज महिलाओं के खिलाफ अत्याचार, रेप, गैंगरेप, मार-पिटाई की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। अभी हम सोनीपत से लौटे नहीं थे कि गुरुग्राम की भी खबर आई कि किस तरह से एक सिक्किम की युवती के साथ 3 लोगों ने गैंगरेप किया। सोनीपत में 19 वर्षीय बेटी की माँ ने बताया कि जो मुख्य आरोपी हैं, उसके खिलाफ उस बच्ची ने 2 महीने पहले पुलिस में शिकायत की थी, क्योंकि वो उसे परेशान करता था, पीछा करता था किंतु पुलिस ने गंभीरता से इस पूरे मसले को नहीं लिया। अगर पुलिस गंभीर होती तो ये रोंगटे खड़े कर देना वाला कांड नहीं होता। जिस बर्बरता के साथ इस बच्ची को मारा गया वो सोच से भी परे है।
 

पहले भी हमने देखा कि हरियाणा में एक नेपाली महिला के साथ इसी तरह से गैंगरेप और उसके बाद बर्बरता से हत्या हुई थी। दलित विद्यार्थी के साथ दूसरी बार रेप केस हुआ था और इन तमाम चीजों पर जब-जब मुख्यमंत्री जी से पत्रकारों ने जवाब मांगा तो मुख्यमंत्री जी को जो जवाब आता था इस हद तक असंवेदनशील होता था कि उन्होंने 2 बार कहा कि रेप केस जैसे छोटे-मोटे मसले होते रहते हैं। तो जब किसी प्रदेश का मुखिया रेप को छोटा-मोटा मुद्दा मानेगा तो उसके नीचे काम करने वाला administration भी असंवेदनशील हो जाता है।
 

कल हम वहाँ गए, उसके बाद चंडीगढ़ में हमने मुख्यमंत्री निवास का घेराव किया और मुख्यमंत्री के OSD को हमने ज्ञापन सौंपा और मांग कि जो बार-बार हरियाणा में देखा कि जब भी गैंगरेप के केस आते हैं तो सबसे पहले पीड़िता के चरित्र पर उंगली उठा देते हैं और उसका संबंध उन दरिदों के साथ जोड़ देते हैं, जो रेप करते हैं। साथ में हमने मांग की कि जो हरियाणा सरकार बताने की कोशिश कर रही है कि इस गैंगरेप में दो लोग थे, लेकिर फॉरेंसिक रिपोर्ट बता रही है कि 5 से ज्यादा लोग थे। तो हमने इस बात की मांग की कि तमाम वो दरिंदे जो गैंगरेप केस में थे वो छूटने नहीं चाहिए, हर एक को कैपिटल पनिशमेंट से कम नहीं मिलनी चाहिए। जब उस बच्ची की माता इस बारे में बता रही थी तो वो बार-बार बेहोश हो रही थी, क्योंकि कोई भी माता अपनी बच्ची के बारे में इस तरह से कैसे बता सकती है कि किस जिस बर्बरता के साथ इस बच्ची को मारा गया था, गैंगरेप किया गया था। साथ ही कहानी खत्म यहाँ नहीं हुई उस परिवार को लगातार धमकियाँ मिल रही हैं, उसके बावजूद उस परिवार को कोई सुरक्षा हरियाणा सरकार ने नहीं दी है। जब हरियाणा सरकार को अहसास हुआ कि महिला कांग्रेस और कांग्रेस नेता पहुंच रहे हैं तो उन्होंने एक महिला मंत्री को भेजा, लेकिन कोई आश्वासन नहीं दिया गया और लगातार परिवार इस बात की मांग कर रहा है कि उनका एक ही बेटा है और उसको भी मारने की धमकी दी जा रही है और सरकार की तरफ से कोई भी सुरक्षा नहीं दी जा रही है। जो मुख्य आरोपी है, जब उस बच्ची ने उसके खिलाफ शिकायत की थी तो उसे धमकी दी कि मैं तुम्हें देख लूंगा, उसके बाद भी सरकार की और पुलिस की असंवेदनशिलता देखिए कि इस बात को सुनिश्चित नहीं किया गया कि वो महिला सुरक्षित रहे।


ये अपने आप में बहुत कुछ दर्शाता है हरियाणा सरकार की कार्यशैली के बारे में। हरियाणा के हालात आज इतने खराब हैं कि गुंडाराज छाया हुआ है, कानून व्यवस्था ठप्प है, कानून का कोई ड़र नहीं है। इस हद तक खराब हैं हालात हैं कि IIM रोहतक में लड़कियाँ एडमिश्न लेने के लिए तैयार नहीं है। वहाँ पर इस साल केवल 6 लड़कियों ने एडमिश्न लिया है। “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” का नारा हरियाणा और बीजेपी सरकार सिर्फ शब्दों में बुलंद करती है। लेकिन अगर हम एक्शन की बात करें, धरातल की बात करें तो महिलाओं की सुरक्षा के विषय में वहाँ पर कुछ भी कदम नहीं उठाए जा रहे हैं और शर्मनाक है कि IIM में केवल 6 लड़कियों ने एडमिश्न लिया है। जबकि पहले वहाँ 78 लड़को के बीच में 73 लड़कियाँ पढ़ा करती थी और अब 145 लड़कों के बीच में सिर्फ 6 लड़कियाँ हिम्मत करके एडमिश्न ले पाई हैं क्योंकि वहाँ पर उनकी सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है।
 

इसी तरह से रेवाड़ी में भी 80 स्कूली बच्चियाँ रोज हड़ताल पर पिछले 6 दिन से बैठी हैं इस मांग को लेकर कि उनके स्कूल को 12वीं तक किया जाए क्योंकि उनका स्कूल 10 वीं तक का है और आगे पढ़ने के लए 3 किमी. दूर के स्कूल तक जाने में भी वो सुरक्षित नहीं हैं। लेकिन सरकार की नींद नहीं खुल रही हैं। एक छोटी बेटी हो, माँ हो, बहन हो सभी में ड़र है। जब हम वहाँ गए तो उन्होंने इक्कठ्ठा होकर बताया कि जितने यहाँ शराब के ठेके हैं, वहाँ असामाजिक तत्व इक्कठ्ठा होते हैं और जब शिकायत की जाती है तो उसे दरकिनार कर दिया जाता है। छेड़छाड़ पर FIR तक दर्ज नहीं होती है, तो हालात इतने खराब हैं यहाँ के। हम समझते हैं कि हरियाणा सरकार को जागना होगा और केवल नारे बुलंद करने की बजाए वो ठोस कदम उठाएं तभी हरियाणा की बेटियाँ सुरक्षित रहेंगी, वरना हालात दिन-प्रतिदिन बिगड़ते जा रहे हैं।
 

क्राईम ब्यूरो रिपोर्ट के हिसाब से हरियाणा गैंगरेप के मामले में नबंर एक हो चुका है। हरियाणा, मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और यूपी तमाम जगह भाजपा की सरकारें हैं और जब हम महिलाओं के बीच में जाते हैं तो वो कहती हैं कि जब एक गाय की पूंछ खींच दी जाती है तो इनका पूरा दल उसको मारने के लिए लग जाता है, कानून हाथ में ले लेते हैं, लेकिन जब एक महिला के साथ रेप होता है तो सब मूक-दर्शक बन जाते हैं, FIR तक दर्ज नहीं होती है। ऐसे हालात भाजपा शासित प्रदेशों में बन गए हैं, बेटियाँ इतनी असुरक्षित हैं, जो बहुत ही शर्मनाक हैं।
 

हम मांग करते हैं रोहतक गैंगरेप केस में तमाम जो दूसरे आरोपी हैं वो तुरंत गिरफ्तार हों और पुलिस को water tight case दर्ज करना चाहिए ताकि हत्यारों को कैपिटल पनिशमेंट मिले और परिवार को सुरक्षा दी जाए। पूरे प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा के मामले में कड़े कदम उठाए जाएं, सरकार संवेदनशील हों और सरकार केवल नारों तक सीमित नहीं रहे, ये हमारी मांग है।
 

यही नहीं यूपी में भी महिलाओं की सुरक्षा को लेकर प्रश्नचिन्ह लगा हुआ है। यूपी में हमने देखा कि एक महिला अपने पति के साथ यात्रा कर रही थी तो उसके साथ गैंगरेप हुआ। निर्भया केस के बाद तमाम लोगों ने महिला सुरक्षा को चुनावी मुद्दा तो बनाया लेकिन धरातल पर कुछ नजर नहीं आ रहा है। जो बहुत ही चिंता का विषय है।
 

कुलभूषण जाधव मामले पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में श्रीमती ओझा ने कहा कि पूरा देश आज इस मामले में टकटकी लगाए देखता रहा कि इस मामले का इंटरनेशल कोर्ट ऑफ जस्टिस में क्या फैसला होता है। निश्चित ही पूरा देश चिंतित है कि जिस तरह से उनका अपहरण हुआ है और उन पर झूठे आरोप लगाकर जिस तरह से पाकिस्तान ने उन्हें कैपिटल पनिशमेंट का फरमान जारी किया है, पूरे हिंदुस्तान को उम्मीद है कि सरकार हर संभव प्रयास करेगी ताकि जाधव सुरक्षित हिंदुस्तान वापस लौट पाएं। हर देशवासी को पूरी उम्मीद है कि जाधव के साथ न्याय होगा।
     

  On the situation prevailing in UP Assembly where united opposition stalled the proceedings, Ms. Oza said as far as UP is concerned, tall claims were made on restoring law and order. What they claimed was that the law and order by the previous Government was in disarray. BJP had made tall promises that law and order would be improved once they came to power but since the BJP Government has come to power, we have seen that the law and order situation has deteriorated day by day and every day we see self-appointed custodians of law in the name of Hindu Yuva Vahini taking law in their own hands and literally lynching people, which is so unfortunate. Hindu Yuva Vahini acts as moral police to threaten and beat the youngsters of UP in the name of anti-romeo squads.


 The Opposition’s voice is not being heard and while trying to catch the attention of the Government on various issues where Government refuses to listen to the voice of the Opposition just because they are in big numbers, the Opposition has tried to draw the attention of the Government on all these issues.

 

Sd/-

(S.V. Ramani)

Secretary

AICC


Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap