| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the press briefing along with youtube link of Shri Kamal Nath, MP and Shri Randeep Singh Surjewala, I/c Communication Deptt. AICC 26-5-2017


https://www.youtube.com/watch?v=zG3SGwH5VV4

 
श्री रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की इस प्रेस वार्ता में इस देश के सबसे वरिष्ठ सांसद आदरणीय कमलनाथ जी का मैं स्वागत करता हूं। इस सरकार की 3 वर्ष की कारगुजारी के बारे में वो अपनी बात रखेंगे उससे पहले आज जो साथी 3 साल का जश्न मना रहे हैं उनके बारे में एक छोटा सा वीडियो लेकर आए हैं उसको चलाने से पहले चंद लाईनें मैं कहना चाहूंगा।

हर रोज 35 किसान फंदे पर झूल जाते हैं और वे तीन सालों का जश्न मनाते हैं।

सरहदों पर वीर सैनिकों के सर काट दिए जाते हैं और वे तीन सालों का जश्न मनाते हैं।
उद्योग धंधे बंद होते जाते हैं और वे तीन सालों का जश्न मनाते हैं।

युवा बेरोजगारी के अंधेरे में धकेल दिए जाते हैं और वे तीन सालों का जश्न मनाते हैं।

छात्रों पर रोजाना जुल्म ढाए जाते हैं और वे तीन सालों का जश्न मनाते हैं।

दलितों पर आए दिन अत्याचार किए जाते हैं और वे तीन सालों का जश्न मनाते हैं।

चारों तरफ महिलाओं के सम्मान पर हमले होते जाते हैं और वे तीन सालों का जश्न मनाते हैं।

देश की आवाज का गला घोंट दबाते हैं और वे तीन सालों का जश्न मनाते हैं।

मंगल यान हो या एशिया की सबसे बड़ी सुरंग; जम्मू कटरा रेल जुड़ाव हो या एशिया का सबसे बड़ा पुल,

3 सालों से कांग्रेस के प्रगति पत्थरों पर लीपा पोती से अपना नाम चढ़ाते हैं और 60 सालों के कांग्रेस के विकास को कोसते जाते हैं।

शायद इसीलिए वो झूठ का जश्न मनाते हैं।

"सच यह है दोस्तों कि देश की उम्मीदों पर सत्ता की भूख भारी है और भाजपा सरकार असलियत में हर मोर्चे पर हारी है”।

आइयें जानें कि क्या छिपाना चाहती है, मोदी सरकार।

Shri Kamal Nath said today the BJP-NDA Government completes three years and the celebrations which the Government has planned, the BJP has planned, what celebration is it, is it the celebration of the people, are farmers celebrating, are the youth celebrating, is the labourer celebrating, is industry celebrating, whose celebration is it? Is it peoples' celebration? The BJP is spending Rs. 2,000 Crores on this celebration on publicity and in various events but what have been the last three years aspirations - trust, beliefs shattered and a Nation betrayed. Bravado, rhetoric and hyperbole of the three years are the hallmark of the BJP Government's three years. Telling lies, Media management, propaganda, platitudes and accolades is what this Government is all about?

 
The three years of Government is only "Bhashan or Ashvasan Yeh Hai Mera Shashan”. I would not like to delve on too many sectors but the crucial sector I want to
startup is 'Employment'. The biggest challenge, as we all know, is unemployment. With the largest aspirational society, the youth are looking for employment and what do we see. With approximately 520 Million people who are youngsters, employment has been the lowest in the last 7 years. PM Modi has, during his election campaign, promised 2 Crore jobs a year. What is the outcome? What is the outcome of these 2 Crore jobs a year. We see that only 1.35 Lakh jobs were created in the year 2015 and by 2028, India needs to create 34 Crore jobs, how will jobs be created – by slogans or by creating an atmosphere of trust for Domestic Investment and Foreign Investment? What is the state on Domestic Investment? What is the state of Bank Credit – Bank Credit is at 5.3%, lowest in the last 3 years. Domestic Investment is again at one of the lowest level this country has seen. Domestic Investment is at the historic low. Diversionary tactics used by the BJP of diverting the peoples' minds, this 'Kalakari ki Rajniti' is the diversionary tactics used by the BJP and continuous assurances being given to the youth. The question is - has more jobs been created on lost in the last three years. How many jobs have been lost? And with Technology and Innovation, we are about to see absolute take on employment in future. Are there any Government plans to deal with the disruption in employment creation caused by innovation and technology. We are seeing what is happening in the IT Sector – the IT Sector is facing job losses, as per Media reports, the IT Sector will be losing about 20,000 jobs per year.

 

So, instead of creating employment, we are seeing a situation where there is gross unemployment. And this is only going to create more economic issues.

We demand that the Government issue a white paper on its employment strategy. What is the strategy, we are not interested – the country is not interested to hear speeches, the country is not wanting to hearing assurances. They should present a white paper to this country on what is the employment strategy for the next two years based on the hard facts of the last three years.

I come down to the 'Agricultural Sector' – The Agricultural Sector is perhaps at the lowest  - from 4.3% the Agricultural Sector has gone down to 1.3%. All the promises made to the farmers of 50% profit, have we seen MSP for wheat in the last three years, the percentage increase of MSP of wheat in the ten years of the UPA Government and we see the percentage increase of MSP in the last three years. This represents a very sordid picture. The question is not only MSP – how much is the procurement? The procurement is not being done and because the procurement is not being done, the farmer is being forced to sell to the trader. Having an MSP was with the objective that the farmer will not be under the mercy of the trader but now the farmer is forced to sell to the trader.

We are seeing that the farmer suicides – historic farmer suicide – 35 farmers committing suicide every day. No other country has the shameful record, in 2016-17, farmers suicide are expected to be about 16,000.

With regard to 'Agricultural Debt' – huge amounts are written off of the business community, huge amounts for the crony business community, huge amounts are being written off - by some estimates Rs. 1.54 lakh thousand crores but the 'debt-ridden' farmer who is in a debt trap – India's agriculture is in a debt trap because the farmers are taking a loan to service a previous loan. He is not taking a loan to have incremental agriculture. And this sad situation is being reflected in the farmers' suicides. The Government scheme of the 'Fasal Bima Yojana' – how many farmers have taken advantage of this? How many farmers have gone for it? The rules made in this are so complicated, the procedure and processes is so complicated that the insurance companies, selected insurance companies have been the biggest beneficiaries.

If we look at the total premium paid by the farmers across the country to insurance companies, it was Rs. 17,185 Crore for the 'Kharif 2016'. 3.9 Crore farmers got relief of 6,808 Crore. So the insurance premium which was collected of Rs. 17,185 Crore, net profit to the insurance companies is of Rs. 10,373 Crores.

So, instead of calling it the insurance companies benefit schemes, they are calling it the 'Farmers Fasal Bima Yojana'. This is just an example of what is happening.

We are seeing Duties being reduced and Wheat Imports are increasing - India has to look at Imports in a strategic manner. India cannot look at – we are an open market, you will recall that in the WTO, this was one of the points I made that we in India have subsistence farmers - farmers who are farming not for profession, not for business but for subsistence and a strategy for subsistence farmer is very important.

So, until we have a strategy for subsistence farmers, the Government did not come out with any scheme other than slogans – no Government in the world, in its history, has given the country more slogans than what the NDA-BJP Government has given in the last three years. No Government has spent so much after being coming into power. What they have spent on publicity of these slogans - whether these slogans – We all know the story of 'Make- in-India, we all know the story of 'Start-up India', 'Digital India' and the amount spent on these schemes in its publicity is, in fact, so exorbitant that the benefits it has accrued are minor as compared to spend. We have had various pronouncements, like demonetization – fine, if it was to unearth black money, the country is waiting to know how much black money was unearthed, how much fake currency was unearthed. Where is the record, where is the statement from the Government. Almost 8 months after the demonetization, the people went through difficulties in the hope that black money will be eradicated, in the hope that fake currency will go but nothing remotely close to that has happened.


So very briefly, what I want to sum up and say that all the slogans have been the failure. We have heard so much talk about corruption, where is the investigation on VYAPAM where thousands of people were affected. Who went to jail, those who paid money went to jail, those took the money never went to jail. That is the point to note because many people are not familiar with this.


VYAPAM is not only concerned about recruitment, it is concerned with Admissions and it is this makes it one of the biggest scams in this country, which has not been unearthed. There are so many scams in various States ruled by BJP but we are seeing today economic figures being given, 7.2% GDP – what does this 7.2% or 7.3% GDP translate into. Does it translate into Domestic Investment, does it translate into jobs, does it translate into wealth creation. So, what is the translation of this 7.2%. We must know. We are seeing in Rural India Disposable Income has gone down. Disposable Incomes are incomes which generate demand in the rural areas for consumer goods and capital goods like two wheelers. The Disposable Incomes are going down and that is manifesting itself in misery for the people. We are seeing scheme after scheme being announced. Where is the execution? I have given you one example of the  'Bima Yojana'.

So, unfortunately the country is becoming victim to this hyperbole and the sloganeering and the future of this country appears not very bright from the economic point of view and from the social point of view. The country has never been so undivided; the country is seeing increased strikes. Because we must accept that the voter of this country is very intelligent, India seeks a massive political change. This change in politics is not only going to reflect itself in the politics of today but in the politics of tomorrow.   


श्री कमलनाथ जी ने कहा कि आज भारतीय जनता पार्टी और एनडीए सरकार के 3 साल पूरे होने जा रहे हैं और ये खुशियाँ मना रहे हैं, जश्न मना रहे हैं। लेकिन मेरा प्रश्न है-  कौन सा वर्ग इस देश में खुशियाँ मना रहा है? क्या नौजवान खुशियाँ मना रहे हैं, क्या किसान खुशियाँ मना रहे हैं, क्या मजदूर, क्या व्यापारी खुशियाँ मना रहे हैं? ये खुशियाँ और जश्न सीमित है भारतीय जनता पार्टी और एनडीए सरकार तक। पिछले 3 साल में हमने देखा कि भाषण और आश्वासन का शासन, भारतीय जनता पार्टी के राज में देखें तो ये स्लोगन प्रमुख है। आज बेरोजगारी की चर्म सीमा है। हमारे नौजवान भटक रहे हैं। आज के नौजवान और 20 साल पहले के नौजवान में बहुत अंतर है। आज के नौजवान में तड़प है, आज का नौजवान इंटरनेट से जुड़ा है, आज के नौजवान का एक नजरिया है और आज का नौजवान जो भटक रहा है, उसकी जो तड़प है वो इसलिए है कि रोजगार के अवसर कम होते जा रहे हैं। इतने बड़े-बड़े नारे रोजगार के, प्रधानमंत्री मोदी जी ने कहा था कि 2 करोड़ नए रोजगार के मौके बनेंगे, लेकिन आज सवा लाख रोजगार के मौके बने हैं 2015 में। लेकिन आज हमारी आवश्यकता 2 करोड़ नए रोजगार की नहीं 3 या 4 करोड़ हर साल रोजगार की आवश्यकता है। तो ये बहुत गंभीर स्थिति हमारे देश में पैदा हुई है। आज हमारे नौजवान भटक रहे हैं, उनमें तड़प है।

कृषि क्षेत्र में हमारे किसानों के साथ धोखा हुआ है। बड़े-बड़े उद्योगपतियों का कर्जा माफ हो जाता है, लेकिन एक किसान का कर्जा माफ तो दूर की बात है उसकी बात सुनी तक नहीं जाती है। हमारे किसानों की जो जरुरतें हैं, जो हमारे कृषि क्षेत्र में ग्रोथ थी वो लगभग 4 प्रतिशत से भी ज्यादा थी वो आज 1.2 प्रतिशत तक पहुंच गई है। हमारे किसान, कृषि क्षेत्र आज परेशानी में है। ये जुमले की राजनीति से 3 साल गुजरे हैं, इसका पर्दाफाश बहुत जल्दी होने वाला है।

एक प्रश्न पर कि कृषि के हालात हैं मोदी सरकार उसको सुधार नहीं पाई है, श्री कमलनाथ ने कहा कि हर फसल की एक रणनीति होती है, हर साल कृषि क्षेत्र में रणनीति होती है, कहीं उत्पादन कम होता है, कहीं उत्पादन ज्यादा होता है। कृषि क्षेत्र जो प्रभावित होता है मौसम के कारण, तो ये कृषि नीति है, खासकर आर्थिक कृषि नीति इसको हर साल बनाया जाता है। यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान हमारी सोच, हमारा नजरिया किसान के भविष्य के साथ था। मैं ये कहना चाहता हूं कि हर 4 महीने में कृषि नीति में परिवर्तन करना पड़ता है क्योंकि कहाँ पर उत्पादन हुआ है, कहाँ पर सूखा पड़ा है, क्योंकि ये one size fit all फॉर्मूला नहीं है। यहाँ परिवर्तन करने पड़ते हैं।

इसी संदर्भ में श्री सुरजेवाला ने कहा कि मैं आपका ध्यान एक बात की तरफ आकर्षित करना चाहूंगा अगर आप कांग्रेस का 10 साल का कार्यकाल देखें कृषि की ग्रोथ 4.2 प्रतिशत थी जैसा आदरणीय कमलनाथ जी ने कहा। 3 साल में वो 4.2 प्रतिशत से गिरकर औसत ग्रोथ 1.2 से 1.4 तक आ गई है। ये अपने आप में दिखाता है कि ये सरकार क्या है। 72 हजार करोड़ के ऋण माफी देश के किसानों की कांग्रेस सरकार ने किया था, मोदी जी की तरह दुतकारा नहीं। न्यूनतम समर्थन मूल्यों मे अप्रत्याशित वृद्धि किसान की फसल में कांग्रेस ने की, मोदी जी की तरह दुतकारा नहीं गया। जब-जब संकट आता था- आप गए थे महाराष्ट्र में विदर्भ में वहाँ पर भी विशेष पैकेज दिया था। आंध्रप्रदेश में संकट आया तो वहाँ के किसानों के लिए विशेष पैकेज दिया था। बुंदेलखंड की मांग आपने उठाई। उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश दोनों का हिस्सा बुंदेलखंड का उसके लिए विशेष पैकेज गया, मोदी जी क्यों नहीं गए प्रश्न ये है।

एक अन्य प्रश्न पर कि बीजेपी शासन में इतने बुरे हालात आपने बताए फिर भी बीजेपी लगातार जीत हासिल कर रही है, श्री कमलनाथ ने कहा कि ये आप उत्तर प्रदेश के संदर्भ में बोल रहे होंगे। उत्तर प्रदेश का चुनाव हुआ, गोवा का, मणिपुर का, पंजाब का और उत्तराखंड का चुनाव हुआ और एक ध्यान बंटाने की राजनीति जिसका मैंने जिक्र किया था। उत्तर प्रदेश को लेकर इन्होंने इतना जश्न मनाया लेकिन जो उनकी हार थी मणिपुर में, जो उनकी हार थी गोवा में सरकार उनकी बन गई क्या प्रलोभन देकर उस पर मैं जाना नहीं चाहता। लेकिन अगर हम तुलना करें जो पिछले 5 चुनाव हुए, उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का चुनाव नहीं था, हम तो केवल कुछ सीटों पर लड़े, समाजवादी और बसपा के बीच था। तो भारतीय जनता पार्टी ने ऐसा जश्न बताया कि जो मणिपुर की हार था, गोवा की हार थी लोग उसके बारे में ना सोचें और उनके जो मंत्री थे, कैबिनेट के मंत्री थे वो किस तरह से हारे, कितने प्रतिशत वोट और कितनी सीटें घटी, ये प्रश्न है? जितने भी चुनाव की बात करें असम का चुनाव लें, केरल की बात करें, 2014 से तुलना करें तो उनके कितने वोट प्रतिशत घटे ये केलक्यूलेशन हमें गंभीरता से करना होगा। हाँ कुछ कमियाँ हमारी भी रही लेकिन हम उस पर चिंतन कर रहे हैं। हम कोशिश करगें कि आगे हम हमारी बात मजबूती से जनता तक पहुंचाएं। लेकिन अंत में जनता जो भुगती है, व्यापारी जिस दौर से गुजर रहे हैं, नौजवानों के साथ, किसानों के साथ जो हो रहा है, आज देश के छोटे-छोटे शहरों में जाएं तो सच्चाई और स्थिति पता चलती है।

इसी संदर्भ में श्री सुरजेवाला ने कहा कि अगर आप 2014 तक का 10 साल तक का कार्यकाल देखें तो लगभग सब चुनाव कांग्रेस ने जीते और सब चुनाव जीत कर हम 2014 का चुनाव हारे। तो इसलिए ये कहना कि एक चुनाव ही मापदंड है हार और जीत का शायद अनुचित होगा। जैसा आदरणीय कमलनाथ जी कह रहे थे हमारे 27 विधायक थे उत्तर प्रदेश में 104 सीटों पर हम लड़ें गठबंधन में लड़े, 403 सीटों के लिए और उस गठबंधन में जब हम लड़े तो एक विषैला माहौल भाजपा ने पैदा किया। उसमें कहीं ना कहीं सच्चाई के सूर्य के आगे परछाई आ गई। थोड़े समय के लिए सच्चाई के सूर्य के आगे बादल आ सकते हैं लेकिन जब बादल छंटते हैं तो सूर्य चमकता है। ये आदरणीय कमलनाथ जी ने बताया।

हरियाणा में जो किसानों के हालात हैं, महिलाओं की असुरक्षा की बात है, क्या कहेंगे, श्री कमलनाथ ने कहा कि हमारी पार्टी ने हरियाणा में बहुत सारे आंदोलन किए हैं, जो आवश्यकता है और आने वाले समय में हमारे आंदोलन में जनता की आवाज को और मजबूती से उठाया जाएगा।

सहारनपुर हिंसा पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में श्री सुरजेवाला ने कहा कि इस देश के गरीब और दलित का दमन भारतीय जनता पार्टी की सरकार का चाल चरित्र और चेहरा, बन गया है। आए दिन दलितों पर अत्याचार, गरीबों के अधिकारों पर अतिक्रमण, गरीबों और दलितों के सम्मान के साथ छेड़छाड़ वो भी सरकारी संरक्षण में ये इस सरकार का असली चेहरा है मुखौटा उतर गया है आदित्यनाथ जी की सरकार का। जिस प्रकार  से 60 दिन के अंदर 600 दुर्घटनाएँ महिलाओं, युवाओं, सुरक्षा कर्मियों और उनके परिवारों, दलितों और गरीबों से हुई है वो आंकड़े दिल दहला देने वाली और रोंगटे खड़े करने वाली हैं। यही भाजपा की असलियत है। 60 दिन के अंदर बीजेपी उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार चुनी गई थी, ये जनता अपने आपको ठगा हुआ महसूस कर रही है। क्योंकि ये जनमत का भी अपमान है और इस देश की सभी मान्यताओं का भी।

एक अन्य प्रश्न पर कि देश की राजनीति में मोदी जी एक ब्रांड वेल्यू के तौर पर उभरे हैं, क्या आप तोड़ने में असमर्थ हैं, श्री कमलनाथ ने कहा कि ये तो आप कह रहे हैं कि वो कामयाब रहे हैं। ये तो आने वाले समय में देखेंगे कि कौन कामयाब है। जैसा मैंने कहा कि देश की जनता समझदार है और ये आने वाला समय बताएगा। ये 2 हजार करोड़ रुपए खर्च करके देश की जनता को गुमराह करना चाहते हैं लेकिन ये इसमें असफल होंगे, हमारे देश के मतदाता और जनता बहुत समझदार है। खुद का साथ खुद का विकास, यही है 3 सालों का परिणाम है, ये बात इनको स्वीकार करनी चाहिए।

इसी संदर्भ में श्री सुरजेवाला ने कहा कि देश को ब्रांड की आवश्यकता नहीं है। इस देश को नेता और नेतृत्व की आवश्यकता है। ईवेंट मैनजमेंट और ब्रांड मैनेजमेंट नहीं। जनता का दुख और जनता के लिए कारगर नीति, वो राजनीति का हिस्सा है। दुर्भाग्य से आज के प्रधानमंत्री जी ये मान बैठे हैं कि टी.वी स्टूडियो वार फेयर और मीडिया मैनेजमेंट से ही वो इस देश का संचालन कर पाएंगे परंतु इस देश का संचालन, इस देश के खेत खलिहानों की वृद्धि, इस देश के नौजवानों की बढ़ोतरी इस देश के व्यापार में प्रगति से होगा।



Sd/-

(S.V. Ramani)

Secretary

Communication Deptt.,

 AICC


Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap