| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the sound byte of Dr. Ajoy Kumar, Spokesperson, AICC 1-6-2017

डॉ. अजय कुमार ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि कल भारत सरकार के द्वारा चौथी तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद और अर्थव्यवस्था से संबंधित आंकड़े सार्वजनिक किए गए। Index of Industrial Production and Whole Sale Price Index का जो बेस ईयर था, उसको 2002 से 2011 बदलने का जो काम संभवत: सिर्फ इसी नियत से किया गया था ताकि मोदी जी की GDP ग्रोथ रेट कुछ और बढ़ा चढाकर देश के सामने रख सकें।

पिछले एक साल में हर तिमाही में GDP और Gross Value Added  दोनों लगातार गिर रहे हैं। इस देश की अर्थव्यस्था की स्थिति सच में चिंताजनक है। जनवरी और मार्च के क्वार्टर में GDP 6.1 प्रतिशत की दर पर गिर कर आ गई है। चिंता का विषय ये है कि GDP का आकलन नए सिरे से करने के बावजूद अर्थव्यवस्था की ये स्थिति है। अगर हम पुराने सिरे से उस GDP का आकलन करेंगे तो यह सिर्फ 4 प्रतिशत के आस पास आ जाएगा।

हम वित्त मंत्री जी और अल्पकालिक रक्षा मंत्री जी को धन्यवाद देना चाहते हैं कि आज उन्होंने अपनी प्रैस कॉन्फ्रेस में इस खराब GDP का दोष पिछली सरकार पर नहीं डाला। इसके बहुत सारे अन्य कारण हैं। हम मानते हैं कि सिर्फ विमुद्रीकरण से ये स्थिति उत्पन्न नहीं हुई है। ये मोदी सरकार की लापरवाही के चलते हुआ है। उसके बाद माननीय प्रधानमंत्री जी ने बर्लिन में कहा कि इस देश की विकास दर 7 प्रतिशत से अधिक की दर से बढ़ रही है।  'ईज ऑफ डूईंग बिजनेस' में देश आगे बढ़ रहा है। परंतु आपको हम ये बताना चाहेंगे कि भारत का स्थान 'ईज ऑफ डूईंग बिजनेस' में 130 वें स्थान पर हैं और 10 क्राईटेरिया में से 7 पर स्थिति या तो वहीं की वहीं है या फिर बद्दतर हुई है।  

अगर हम एक-एक आंकड़े दें तो एक विचित्र बात है कि दो खास क्षेत्रों कृषि और सरकारी खर्चे निवेश में सिर्फ विकास दर बढ़ा है और कृषि क्षेत्र में जिसमें मोदी जी की किसी तरह की कोई रुचि नहीं है, जहाँ इस सरकार ने हाथ लगाया जैसे - Make in India, Manufacturing Sector down, Skill India.

Service Sector down, Digital India then IT Sectors are all down.

वहाँ पर छंटनी हो रही है। तो जिस क्षेत्र में मोदी जी हाथ लगाते हैं उसी क्षेत्र की स्थिति डाउन होने लगती है।

आपने देखा कि Construction Sector में इस सरकार ने कहा कि Real Estate Regulatory Authority लाएंगे और Construction Sector की स्थिति को सुधारेंगे। परंतु इसके विपरीत Construction Sector लगातार और इस तिमाही में -2.7 प्रतिशत पर है।

पूर्व प्रधानमंत्री माननीय मनमोहन सिंह जी ने संसद में कहा था कि ये विमुद्रीकरण के चलते है। 2 प्रतिशत कृषि क्षेत्र में गिरावट आएगी। मनमोहन सिंह जी का बयान एकदम सही था। लगातार नौकरी में छंटनी हो रही है। उनके आईटी मंत्री आकर बोलते हैं कि नहीं हो रही है लेकिन आंकड़े जो पेश किए जा रहे हैं उससे स्पष्ट होता है कि सॉफ्टवेयर सेक्टर में भी बहुत बड़े तरीके से छंटनी चल रही है। हम आपको सिर्फ कुछ आंकड़े देंगे।

Construction activities down by – 3.7% in Quarter IV – Financial Sector in Real Estate and Professional Service down by 3.3%, Growth in 8 Core sector only 2.5%

महत्वपूर्ण सेक्टर में सिर्फ 2.5 प्रतिशत ग्रोथ है। कहाँ दुनिया के सबसे तेज रफ्तार में बढ़ने वाली अर्थव्यस्था - 2014 में जब मोदी सरकार आई, कांग्रेस सरकार जिस दर पर अर्थव्यवस्था को छोड़कर गए थे, उस तेजी से आगे बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था पर मोदी जी ने और इनके मंत्रियों ने पूरी तरह से ब्रेक लगा दिया है।

हम सरकार से यही अनुरोध करते हैं कि कृपा 'Light and Sound' कार्यक्रम करके देश का ध्यान ना भटाकाएं। ईवेंट मैनजमेंट करके लोगों को गुमराह ना करें। जिस कारण से 2014 में जो इन्हें प्रचंड बहुमत मिला वो था- विकास के नाम पर, नौकरी के नाम पर, डिजिटल इंडिया के नाम पर, स्मार्ट सिटी के नाम पर, किसान अर्थव्यस्था को सुधारने के नाम पर। तीन साल में और आज के GDP के आंकड़े देखने से ये स्पष्ट होता है कि मोदी सरकार जश्न मनाना बंद करे, क्योंकि देश में चारों तरफ मातम है। युवकों के पास नौकरी नहीं है।

हम प्रधानमंत्री जी से एक जिम्मेदार विपक्ष के नाते अनुरोध करेंगे कि 3 महत्वपूर्ण क्षेत्रों में ध्यान दें। एक है कृषि क्षेत्र, महाराष्ट्र में किसान हड़ताल पर है। मध्यप्रदेश में दुग्ध उत्पादक और किसान हड़ताल पर हैं। अगर ये 6.1 प्रतिशत GDP ग्रोथ हुआ भी है वो इसलिए हुआ क्योंकि कृषि क्षेत्र का परफोर्मेंस अच्छा हुआ है। तो जिस क्षेत्र को ये नकार रहे हैं, तकलिफ पहुंचा रहे हैं इसी क्षेत्र ने मोदी जी और इस सरकार की ईज्जत बचाई है। हर रोज लगभग 35 किसान आत्महत्या कर रहे हैं और इसके बावजूद एक अन्य असंवेदनशील निर्णय से सरकार ने कल रात ही किसानों के लिए महत्वपूर्ण डीजल के मूल्य में 89 पैसे और पैट्रोल में प्रति लिटर 1 रुपए 23 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि कर दी।   

हम माननीय मोदी जी और अरुण जेटली से अनुरोध करेंगे कि कम से कम कृपा कर अब तो जागिए। कृषि क्षेत्र, आईटी सेक्टर और अन्य क्षेत्रों में ध्यान दीजिए।

सरकार को मालूम था कि इस क्वार्टर के आंकड़े इतने खराब होंगे तो उन्होंने Index of Industrial Production and Whole Sale Price Index का बेस ईयर ही बदल दिया। इसी उम्मीद पर कि 3.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी मिल जाएगी। उसके बावजूद सिर्फ 6.1 प्रतिशत था।

पिछले एक साल में या चार क्वार्टर में लगातार विकास दर में गिरावट हो रही है। ये बात जेटली जी ने कही है। जेटली जी ने अपनी प्रैस कॉन्फेंस में कहा कि हमने कालेधन को हटा दिया, लेकिन आरबीआई में कितने पैसे जमा हुए, ये नहीं बताया देश को। लगता है आरबीआई की पैसे गिनने की क्षमता कम हो गई है। कुछ लोग बोलते हैं कि जितने पैसे इस सिस्टम में थे उससे ज्यादा हो गए। इसका मतलब है कि कालेधन वाले को तो फायदा ही फायदा हुआ, तो वहाँ पर फेल।

Indian National Congress requests the Government of India to please focus in the remaining two years  in the critical areas in which they had  promised to the people in 2014 i.e. jobs for the youth, the welfare of the farmers and increasing opportunities for entrepreneurs.

एक प्रश्न पर कि केरल में बीफ मामले पर आप क्या कहेंगे, श्री कुमार ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष और कांग्रेस पार्टी ने इस पर मत स्पष्ट किया है कि गलत तरीके से प्रोटेस्ट करने वालों की कांग्रेस पार्टी में किसी तरह की कोई जगह नहीं है। केरल में यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता बीफ प्रोटेस्ट में जो शामिल थे उनको पार्टी से निकाला गया है। परंतु मैं आपसे ये सवाल पूछना चाहूंगा कि 6000 गायों की जो हत्या हुई है राजस्थान कि सरकारी गौ-शालाओं में उसमें इस सरकार की क्या जिम्मेदारी है? लगातार गौ माता की आड़ में अपनी नाकामयाबी को छिपाने की कोशिश ये सरकार कर रही है, उस पर मोदी सरकार और बीजेपी जवाब दें।

इसी संदर्भ में श्री कुमार ने आगे कहा कि आश्चर्यजनक रुप से कल सरकार के द्वारा GDP आंकड़ों में बढ़ती बेरोजगारी के बावजूद हम लोग इस पर चर्चा कर रहे हैं हमारा सिर्फ यही कहना है कि देश के सामने अर्थव्यस्था पर खतरा बढ़ रहा है उससे ध्यान भटकाने के लिए जो बहस चल रही है, वो देश के लिए ठीक नहीं है।

जहाँ तक गौवध की बात है 1950 के दशक में अधिकांश प्रांत में कांग्रेस द्वारा जनता को विश्वास में लेते हुए गौवध प्रतिबंद्धित करने के लिए कानून लाई थी। वैसे प्रदेश जो कार्यक्षेत्र में जैसे केरल हो, गोवा हो उन प्रदेशों में जहाँ पुरानी खाने पीने की परंपरा है वहाँ के लोगों और राज्य सरकारों पर भारत के संघीय प्रणाली को ध्यान में रखकर छोड़ दिया था। अधिकांश प्रदेशों में प्रतिबंध लगा दिया था। वैसे ही संगीत सोम जो मुज्जफरनगर दंगे के अपराधी हैं उनका अल-दुआ फूड प्रोसेसिंग प्राइवेट लिमिटेड कंपनी से संबंध जगजाहिर है जो मीट एक्सपोर्ट करने के लिए जानी जाती है। वैसे ही भाजपा सरकार का गोवा में बूचड़खाना चलता हैं। दूसरी तरफ राजस्थान के भाजपा सरकार की देखरेख में हिंगौनिया में 6000 गाय हर साल सरकारी गौ-शाला में मर जाती हैं। कानपुर में RSS की गऊशाला में सबसे ज्यादा गाय मरती हैं और यहाँ रोज गऊओं को राजनीतिक बहस का मुद्दा बनाने की कोशिश स्वयं सरकार कर रही है। कांग्रेस पार्टी की मांग है कि संगीत सोम को बर्खास्त करें, राजस्थान में वसुंधरा सरकार को बर्खास्त कीजिए, गोवा में बूचड़खाना चलाने के लिए जिम्मेदार लोगों को बर्खास्त कीजिए, मणिपुर में आप अपनी सरकार का समर्थन हटाएं, अरुणाचल प्रदेश में सरकार से इस्तीफा लें, तब हम मानेंगे कि इनका ये ढोंग नहीं है, ये सच में चिंता करते हैं। तब तक अपना ईवेंट मैनेजमेंट और भाषण बंद रखें।

 On the question of Shri Digvijay Singh and Shri Ghulam Nabi Azad meeting Mr. Zakir Naik, Dr. Ajoy said if you remember Mr. Zakir Naik also met General Sinha and so many other leaders of BJP but we never hear about it. Rather than asking the question from the Government, Opposition is asked the question. To cover its failure, the Government continuously get information leaked of 2008 and 2004 to hide its inefficiency and mis-governance. My question to you is when will you question the Government for their failure. The Government has got no explanation for all their inefficiencies.

 But I am sure Mr. Zakir Naik must have met people from all political specter. There are so many BJP people involved in the ISI Cell Racket spying for the BJP. BJP Madhya Pradesh, IT Cell was spying for the ISI. Those are much more interesting stories which could highlight the BJP's involvement.

On the situation of Economy in India especially with regard to GST, Dr. Ajoy said that the Indian economy is in trouble, is a fact. If you continuously deny it, Jobs in IT Sector is going, Market is down, Manufacturing is down, Services are down, Jobs are down, no growth is happening but Mr. Jaitley says that the economy is Okay. Mr. Jaitley is entitled to his opinion and we totally support him on any opinion to have but he has no right to have his own facts - the fact is 6.1% GDP, the fact is Gross Value Added is down by 3%, the fact is IT Sector is down, Construction Sector is down, Manufacturing Sector is down and India's growth is down.

 On the second issue of GST he said that this is for the Government to ensure that their promise of implementing GST from 1st July is met. We want the Government to take all steps to ensure that the economy does not get further derailed. Ultimately Mr. Jaitley and Mr. Modi will be held responsible if the GST and its implementation is not done properly.


Sd/-

(S.V. Ramani)

Secretary

Communication Deptt.,

 AICC


 
    







    






    






    

















    


















    







    






    







 
Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap