| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the press briefing of Shri Manish Tewari, Spokesperson, AICC

 
 
Shri Tewari said, The Prime Minister of India has reshuffled his council of ministers. It is the prerogative of every Prime Minster, to decide who should be his ministerial colleague and who should not be his ministerial colleague. But the strange thing about this exercise, which culminated in the oath taking ceremony today, was that the Prime Minister seemed strangely disconnected from the exercise. It seemed as if the BJP President, Mr. Amit Shah, is the Prime Minister of India and not Mr. Narendra Modi. Never ever has the absence of the Prime Minister in a cabinet reshuffle process have been more evident.
 
But, let me come to the reshuffle itself. When I read the names of the new ministers in the newspaper today morning, what sprung at me from the newspaper was that it seemed to be s senior citizens club. The average age of the 9 new ministers who have been inducted, is 60.44 years. In a country, where the median age of India’s 1.24 billion people is about 27 years and this is a Prime Minister  who has been waxing eloquent about the youth’s of this country.
 
Shri Tewari added, The 9 new ministers inducted, on an average have an age of 60.44 years, in a country where the median age of its population is close to 27 years. But, what is most striking is the inclusion of a gentleman called ‘Mr. Hegde’ from Karnataka. Now this Mr. Hegde, at the beginning of 2017, was captured on camera, thrashing 3 doctors in a private hospital in Karwar in Uttar Kannada District of Karnataka. Now look at the contrast, on one hand you have the Congress Party, which has started the All India Professionals Congress, in order to honor the professionals of this country – Doctors, Teachers, Engineers, Architects, Lawyers and on the other hand, you have the Prime Minister of India, who is inducting a Minister who physically thrashes professionals and doctors who work day and night to save patients.
 
What is the message that the Prime Minister of India wants to send to the country, especially to its professionals, with the induction of a gentleman like Mr. Hegde?  I just hope the Prime Minister does not have him in mind for the ‘Health’ portfolio. But there is a more ominous ring to it. The ominous ring to it is that Mr. Hegde has been inducted with the sole intent of trying to communalize the situation in Karnataka. If you look at his past from 1992 onwards, they are all directed at attempting to polarize society and create a communal divide. So, Mr. Hegde’s induction gives an indication of what the BJP’s strategy in Karnataka is going to be.
 
The Fourth point is, if you look at his 9 New Ministers that have been inducted, this senior citizens club which the Prime Minister has created
 
Today – 4 are Former Bureaucrats, 1 is a Doctor-Beater and the other 4 are inconsequential. So 9 people have been inducted, 4 are former bureaucrats, 1 is a doctor beater and the other 4 are inconsequential. What is the message? The Prime Minster does not ‘Trust’ his Political Colleagues. The Prime Minster does not have any ‘Faith’ in his Political Colleagues – is the message that he is sending out to his own party, by inducting people into the union council of ministers, who are not even members of Parliament. Yes, there are 2 of them – Mr. Hardeep Singh Puri and the other gentleman; he is not a Member of Parliament. The other gentleman is from Kerala, if my information serves me correctly.
 
Therefore, the broader message is that a Government which was run by Bureaucrats, controlled by the PMO, is now going to have Bureaucrats in Ministerial Positions also.
 
Now let us come to the people who have been elevated. Mukhtar Abbas Naqvi is mere ‘Tokenism’. You know what the BJP thinks about the Minority’s in this country. So Mukhtar Abbas Naqvi’s elevation to cabinet rank is nothing but Tokenism. But, what is interesting is the elevation of Nirmala Sitharaman – This is possibly the first instance where somebody has been elevated for ‘Non-Performance’.
 
Out of the last 38 months, for a substantive part of the last 38 months, India’s Exports-Imports when she was Commerce Minister have been in a Free-Fall. There is nothing on the balance sheet of the Commerce Minister to justify her position and possibly because the Prime Minister did not induct a ‘Single Woman’ out of the 9 Ministers who were inducted, this is another case of Tokenism.
 
Shri Tewari said, Now you come to the Petroleum Minister who has been elevated. Between July 2017 and now and I am not even going into the past – Petrol prices have increased by Rs 6 Ltr, Diesel Prices by Rs 3.67 paisa a Ltr where Crude Oil has been stable and still continues to be stable at $45 a Barrel. Remember the days of the UPA, when Crude Oil was at $130 a barrel. So, therefore, the petroleum minister in the last 38 months has not served the ‘Aam Aadmi’ of India.  It is obvious that he has served some ‘Khaas Aadmi’s’ that he has been promoted.
 
Coming to the Power Minister, he is also the ‘Treasurer’ of the BJP. So obviously he must have performed well in the past 38 months.
 
But, the real story is in the ‘Dropping’ and that is where the admission of the ‘Gigantic Failure’ of this Government comes through.
 
Who are dropped - The Minister for Skill Development Rajeev Pratap Rudy, the Minister for MSME Kalraj Mishra, and the Minister for Labour Bandaru Dattareya. So what does it say, No Skilling, No Employment Generation and in addition to that, the MSME Sector has been wiped out. But the gentleman who presided over the destruction of the Indian Economy, who has brought it down from a Historic Growth of 7.8% on an average at 2004-05 as the GDP Base Year, to 3.7% in the last quarter and 2004-05 is the base year of the economy, who have presided over something as illogical as demonetization; and you just need to read Raghuram Rajan’s interview today, and that would tell you the story that till September 2016 there was no Demonetization on the cards. Possibly the RBI Governor was removed in order to facilitate this ‘Tughlaki Farmaan’. But that gentleman, who presided over the destruction of the Indian Economy, who has sunk the Indian Economy, shrunk the Indian Economy – continue to prosper and thrive.
 
So in conclusion what this reshuffle reflects is – ‘Maximum Government and No Governance’, which is the message of this reshuffle.
 
श्री मनीष तिवारी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने अपने मंत्रिमंडल का आज विस्तार किया, कुछ नए मंत्रियों को शपथ दिलवाई, कई मंत्रियों को अपने पद से हटाया और इसमें जो सबसे आश्चर्यजनक बात ये है कि, सारी प्रक्रिया में प्रधानमंत्री जी कहीं आलोप दिखे, सारी प्रक्रिया भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष श्री अमित शाह चला रहे थे। तो ऐसा प्रतित होता था कि भारत के प्रधानमंत्री श्री अमित शाह हैं ना कि श्री नरेन्द्र मोदी। शायद पहली बार ऐसा हुआ है इस देश के इतिहास में कि, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जो सरकार के संघ के मंत्रीमंडल के प्रमुख हैं, जिनके साथ, जिनके नीचे संघ के बाकी मंत्री काम करते हैं, या तो उनमें हिम्मत नहीं थी अपने साथियों को कहने के लिए कि आपकी परफोर्मेंस सही नहीं रही है, या प्रधानमंत्री जी की सरकार में कोई दिलचस्पी नहीं लगती, नहीं तो इस तरह का विचित्र वाक्य जो चलचित्र पर चलता रहा इतने दिनों, मंत्री जा रहे हैं अमित शाह के घर इस्तीफा देने के लिए, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ और दूसरा आज जो नए 9 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई है, तो ऐसा व्यतीत होता है कि प्रधानमंत्री जी ने एक Senior citizen club का गठन किया है। ये जो 9 मंत्री सरकार में शामिल किए गए हैं इनकी Avg आयु 60.44 साल बनती है। उस मुल्क में जिसमें जो मीन आयु है, जो मीडियम age है, वो लगभग 27 साल है और ये वो प्रधानमंत्री जी हैं जो भारत के नौजवानों की आशाओं और आकांक्षाओं और अपेक्षा को लेकर लंबे-लंबे लच्छेदार भाषण दिया करते थे। कथनी और करनी में बहुत फर्क है।
 
पर सबसे चिंताजनक बात तो ये है कि, जो ये श्री हेगड़े जी को सरकार में शामिल किया गया है, अब जनवरी 2017 को इन हेगड़े जी को कैमरे पर देखा गया था, करवार में एक अस्पताल में डॉक्टरों की पीटाई करते हुए। अब आप विडंबना देखिए कि एक तरफ तो कांग्रेस पार्टी है, जिसने ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस का गठन किया है, जो डॉक्टर हैं, वकील हैं, आर्केटेक्ट हैं, इंजिनियर हैं, आईटी से जुडे हुए लोग हैं, उनको ईज्जत-मान और सम्मान देने के लिए और दूसरी तरफ हमारे प्रधानमंत्री जी हैं जो डॉक्टरों को पीटता है उसको संघ का मंत्री बना देते हैं। मुझे इस बात की आशंका है कि कहीं उसको भारत का स्वास्थ मंत्री ना बना दें।
 
पर इसमें संगीन बात ये हैं कि जिस तरह की इस व्यक्ति की प्रतिक्रियाएं रही हैं, उससे साफ-साफ यह संदेश ये जाता है कि कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी, जो आगामी चुनाव हैं, उसको साम्प्रदायिक बनाना चाहते हैं। इनकी जो प्रतिक्रियाएं रही हैं, 1992-93 से लेकर आज तक, उनको अगर आप संज्ञान में लें तो और इनमें ऐसी कोई खासियत नहीं है कि इनको संघ का मंत्री बनाया जाए। अब जो 9 मंत्री बनाए गए हैं नए, Senior citizen club जो गठित हुआ है, उसमे से 4 पुराने नौकरशाही है, जिनमें से दो अभी संसद में नहीं हैं, एक डॉक्टरों को पीटने वाला है और जो बाकि 4 हैं उनके बारे में जितना कम कहा जाए उतना बेहतर है, आज ही मंत्री बने हैं अच्छा नहीं लगता। तो कुल मिलाकर प्रधानमंत्री जी संदेश क्या भेज रहे हैं कि, ना उनको भारतीय जनता पार्टी पर, ना अपने राजनीतिक साथियों पर, किसी पर भी विश्वास नहीं है। नौकरशाही उनकी सरकार चला रही थी, अब नौकरशाही से जुड़े हुए लोग उनके मंत्रीमंडल में भी शामिल हो गए हैं, No trust on your political colleagues at all, thats the second message of this reshuffle.
 
पर सबसे अदभुत और विचित्र बात ये है कि जो हटाए गए हैं जहाँ पर सरकार की जो पूर्ण विफलता है, टोटल नाकामी है, वो झलकती है, किस-किसको हटाया गया है, Skill-Development के वजीर को, किसको हटाया गया है MSME के वजीर को, किसको हटाया गया है लेबर के वजीर को। तो इसका क्या संदेश है कि जो दो करोड़ हर साल में नौकरियाँ पैदा करने की बात करते थे, जो कहते थे कि हम भारत के हर नौजवान को काम देंगे, 38 महीने बाद Skill-Development, श्रम और MSME के वजीर को हटाकर प्रधानमंत्री जी ने इस बात को कबूल किया है कि, उनकी सरकार खास कर जो आर्थिक क्षेत्र हैं, उसमें पूरी तरह से नाकाम और विफल रही है।
 
पर इसमें अजीब बात ये है कि जो व्यक्ति, जिसने भारत की अर्थव्यवस्था को 2004-05 के आधार वर्ष (Base year) पर 3.7%  ले आए, जिन लोगों ने ये नोटबंदी जैसा ‘तुगलकी फरमान’ जारी करवाया, वो अभी भी इस सरकार में फल-फूल रहे हैं। जिन मंत्रियों को प्रमोशन दी गई है, नक्वी जी ‘Tokenism’ है, भारतीय जनता पार्टी अखलियतों के बारे में किस तरह के विचार रखती है, वो आप लोगों से छुपा हुआ नहीं है। लेकिन सबसे विचित्र ये है कि जिस कॉमर्स मिनिस्टर के 38 महीने के कार्यकाल में अधिकतर समय तक जो आयात और निर्यात है, वो Crippling Decline पर आ गया, उनको पद्दोनित कर दिया है। शायद क्योंकि जो 9 नए वजीर लिए गए थे, उनमें कोई भी महिला नहीं थी।
 
जहाँ तक तेल मंत्री का सवाल है, तेल मंत्री ने पीछले 38 महीने में कोई कसर नहीं छोड़ी भारत के आम आदमी के ऊपर बोझ डालने के लिए। जुलाई 2017 और 3 सितंबर 2017 के बीच 6 रुपए पैट्रोल की कीमत बढ़ा दी, 3 रुपया 67 पैसे डीजल की कीमत बढ़ा दी, जबकि कच्चे तेल की कीमत आज भी 45 डॉलर पर है। आप याद करो, एक समय था, UPA के कार्यकाल में जब ये 125 डॉलर - 130 डॉलर छुआ करती थी, कच्चे तेल की कीमत और कभी कीमतें नहीं बढ़ाई गई थी। तो इसलिए बड़ा साफ है कि तेल मंत्री ने कुछ ‘खास आदमियों’ की सेवा की होगी, ‘आम आदमी’ का तो उन्होंने बंटाधार ही कर दिया है। अब जो हमारे मित्र भी रहे हैं, पीयूष गोयल जी, वो भारतीय जनता पार्टी के कोषाध्यक्ष भी हैं, तो अमूनन पीछले 3 साल में, 38 महीने में, उनकी परफोर्मेंस अच्छी रही होगी। तो इसलिए कुल मिलाकर इस सारे Cabinate Reshuffle का लब्बोलबाब यही है- ‘मैक्सिमम गवर्मेंट एंड नो गवर्नेंस’ (Maximum Government, , No Governance)
 
एक प्रश्न पर कि निर्मला सीतारमन जी को रक्षा मंत्रालय दिया गया है, क्या कहेंगे, श्री तिवारी ने कहा कि निर्मला जी को मुबारकबाद देते हुए हमारी ये उम्मीद है कि, रक्षा मंत्रालय का वो हाल ना करें, जो उन्होंने वाणिज्य मंत्रालय का किया है क्योंकि पीछले 38 महीने में शायद 30 महीने ऐसे निकले हैं, जिसमें भारत का आयात और निर्यात का जो ग्रोथ रेट रहा है, वो दो शब्दों में उसको बंद किया जा सकता है- Crippling Decline
 
एक अन्य प्रश्न पर कि भाजपा नमामी गंगा की सफाई की बात बहुत दावे के साथ की गई थी, लेकिन पूरे विभाग को बदल दिया गया है, Skill India का बात की गई थी, उसमें उमा भारती को मंत्रीपरिषद से हटा दिया गया, उसमें आपकी क्या प्रतिक्रिया है, दूसरा प्रश्न की जेडियू बड़ी उम्मीदों के साथ भाजपा में शामिल हुई थी, उनको कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई, श्री तिवारी ने कहा कि उसमें उमा जी की क्या गलती है, “राम तेरी गंगा मेली हो गई, बीजेपी के पाप धोते-धोते”। पाप आप खुद करो, गंगा के वजीर को जिम्मेदार ठहरा दो। देखिए पीछले 38 महीने का जो कार्यकाल रहा है, उसको आप अगर 5 बिंदुओं पर इसका मूल्यांकन करें - साम्प्रदायिक स्वार्थ, राजनीतिक स्थिरता, आंतरिक सुरक्षा, आर्थिक विकास और अंतर्राष्ट्रीय संबंध, ये सरकार चौखाने चित्त रही है और अभी तो क्योंकि प्रधानमंत्री जी बाहर जा रहे हैं और हमारी पंरपरा नहीं है कि जैसा व्यवहार वो करते हैं, हम करें, पर जब डोकलाम (Doklam) का सच सामने आएगा तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।
 
जहाँ तक दूसरे प्रश्न की बात है इसमें संदेश दूसरा है, संदेश ये है कि जोर-जबर और जुल्म से आप लोगों को अपने साथ तो लेकर आ सकते हैं, ये जेडीयू वाले गठबंधन में सृजन का कितना रोल रहा है, इसका व्याख्यान और विषलेषण अभी बाकी है, पर एक बात बिल्कुल सही है कि कोई व्यक्ति आपकी सरकार में शामिल नहीं होना चाहता - क्योंकि लुटिया लड़खड़ा रही है, कश्ती डगमगा रही है, सिर्फ नोर्थ कोरियन (North Korean) संवाद के साथ मुल्क नहीं चलता है। तो इसलिए ये नहीं है कि ये लेना नहीं चाहते थे, जिनको जोर- जबर और जुल्म से साथ लेकर आए हैं उन्हें कहा कि यहाँ तक ठीक है, अब आगे बिल्कुल ही हमारा जो राजनीतिक हत्या है, उसका पूरा इंतजाम मत कर दीजिएगा।
 
पीयूष गोयल पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में श्री तिवारी ने कहा कि, जितना भार उन्होंने भारत के आम आदमी पर डाला है पीछले 3 मीहनें में, तेल मंत्री होने के नाते, तो अगर वही Skill Development में उनका हाल रहा फिर तो भारत की Skill Development भगवान भरोसे ही है।
 
On the question of Nirmala Sitharaman being appointed as the Defence Minister of the Country, Shri Tewari replied, Well without going into the Gender Question which I have already elaborated upon at some lengths, we do wish that she does not handle the Defence Ministry in the manner in which she handled the Commerce Ministry. Out of the 38 months that Nirmala Sitharaman was Commerce Minister, for over 30 months, the Exports and Imports of India were on a crippling decline. So our only hope and further wish is that she does not do the same thing to the Defence Ministry what she has done to the Commerce ministry.
 
On the question of appointment of Piyush Goyal as new Petroleum Minister and Dharmendra Pradhan as the Skill Development Minister Shri Tewari said, We do not want to get personal with anybody, but the fact remains that what has been the capacity addition to India’s Petroleum Sector in the past 38 months. What has been the value addition to India’s overseas energy drive and the answer is Zilch. So therefore, if Petroleum is a benchmark, then God help India’s skill development.
 
On the question of China saying issue of Pakistan should not be taken up in BRICS, Shri Tewari Said, The export of terror from Pakistan is a fundamental concern of India. After Pakistan’s oldest ally, The United States of America has clearly named and shamed Pakistan as being not only a promoter of terrorists but also a protector of terrorists, the Prime Minister of India would be Remiss if he does not raise the issue of terror emanating from Pakistan at the BRICS summit.
     
Sd/-
(S.V. Ramani)
Secretary
Communication Deptt.,
AICC

Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap