| |

MEDIA

Press Releases

Statement issued by Shri Randeep Singh Surjewala, I/c Communication Deptt., AICC

रणदीप सिंह सुरजेवाला, मीडिया प्रभारी, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने निम्नलिखित वक्तव्य जारी किया:-

देश की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमराई - लड़खड़ाई
मोदी सरकार के ‘न्यू इंडिया’ में जान की कोई कीमत नहीं
सैकड़ों अबोध बच्चों की दर्दनाक मौत के लिए भाजपा दोषी
स्वाईन फ्लू का संक्रमण देष भर में फैला
 


भाजपा सरकारों की घोर लापरवाही अपराधिक उदासीनता व जीर्ण-क्षीण स्वास्थ्य व्यवस्था देश के लोगों के जीवन से खिलवाड़ का कारण बन गई हैं। हमारी संस्कृति में बच्चों को भगवान का रूप माना जाता है। पर भाजपा सरकारें उन्हें श्मशान और कब्रस्तान पहुंचाने पर तुली हैं। 

सच्चाई यह है कि - ‘‘अमानवीय व्यवहार, त्रुटिग्रस्त उपचार, जनता लाचार, ऐसी हैं भाजपा सरकार!’’ 
सबसे ताजा उदाहरण फर्रुखाबाद के सरकारी अस्पताल में 49 बच्चों की मौत है, जिसका कारण ऑक्सीजन की कमी और दवा उपलब्ध न होना है। साथ-साथ गोरखपुर हादसे में मरनेवाले बच्चों की संख्या एक महीने में अब 357 हो गई है। यहां तक कि गोरखपुर में पिछले 24 घंटों में 13 बच्चों की मौत हो गई। 

यही नहीं, बांसवाड़ा, राजस्थान में पिछले 53 दिनों में 86 बच्चों की मौत हो गई और इस साल 2017 अगस्त तक मरनेवाले बच्चों की संख्या 236 पहुंच गई। 

पिछले 28 दिनों में रांची के सरकार अस्पताल में 133 बच्चों की मौत हुई और जमशेदपुर के सरकारी अस्पताल में पिछले 4 महीने में 164 बच्चे सरकारी लापरवाही के चलते मौत के शिकार हुए। इस साल जनवरी से अगस्त तक अकेले रांची व जमशेदपुर के सरकारी अस्पतालों में 800 से अधिक बच्चों की मौत हुई। यही हाल छत्तीसगढ़ का है।

सवाल यह है कि इन दर्दनाक हादसों व हत्याओं के लिए क्या भाजपा सरकारें जिम्मेदार नहीं? अगर हां, तो आज तक उत्तरप्रदेश, झारखंड व राजस्थान के भाजपाई मुख्यमंत्रियों व स्वास्थ्यमंत्रियों के खिलाफ कार्यवाही क्यों नहीं हुई? भारत सरकार व देश के स्वास्थ्यमंत्री क्यों मूक दर्शक बने बैठे हैं? उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री, श्री आदित्यनाथ ने तो अहंकार की सभी हद पार कर डालीं, जब बच्चों की मौत पर टिप्पणी करते हुए यह कहा कि, ‘मुझे लगता है कहीं ऐसा न हो, लोग अपने बच्चे, जैसे ही 2 साल के हों, सरकार के भरोसे छोड़ दें, सरकार उनका पालन-पोषण करे।’ यह भाजपाई मानसिकता का सबसे जीता-जागता सबूत है। 

स्वाईन फ्लू (H1N1) ने महामारी का रूप धारण किया
एक तरफ बच्चों की मौत के लिए भाजपाई सरकारें जिम्मेदार हैं, तो दूसरी तरफ 27 अगस्त, 2017 तक, 1260 देशवासियों को स्वाईन फ्लू के संक्रमण से अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। 

साल, 2016 में हुई 265 व्यक्तियों की मौत के मुकाबले यह संख्या 2017 में (अगस्त माह तक) बढ़कर 1260 हो गई है। इसमें भी सबसे अधिक मौतें भाजपाशासित गुजरात (329), महाराष्ट्र (467), राजस्थान (80) व उत्तरप्रदेश (53) में हुई हैं। यह भाजपा सरकारों की नालायकी, निकम्मेपन व नाकारापन का जीता जागता सबूत है। 

देश के 125 करोड़ लोगों की ओर से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस मांग करती है कि प्रधानमंत्री इन दोनो मामलों पर अपना वक्तव्य दें, देश के स्वास्थ्य मंत्रालय की घोर नाकामी के लिए कड़ी कार्यवाही करें व उत्तरप्रदेश तथा झारखंड के मुख्यमंत्रियों व स्वास्थ्यमंत्रियों के खिलाफ निर्णायक कार्यवाही हो ताकि दिन-प्रतिदिन होने वाली मौतों पर विराम लग सके।  

Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap