| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the press briefing of Dr. Abhishek Manu Singhvi



Dr. Singhvi said, you have just heard the Hon’ble Prime Minister ending a short while ago, on his address regarding Swami Vivekananda’s historic visit to the United States. As you know Swami Vivekananda came to Chicago in 1893, to attend the World Parliament of Religions as a representative of India and of Hinduism where he eloquently quoted from the Bhagwad Gita and I am quoting the Bhagwad Gita and I am quoting Vivekananda Ji to you who said “Whosoever comes to me, through whatsoever form, I reach him; all men are struggling through paths which in the end lead to me. Sectarianism, bigotry, and its horrible descendant - fanaticism, have long possessed this beautiful earthy. They have filled the earth with violence, and drenched it often with human blood, destroyed civilization, and sent whole nations to despair”. This is Vivekananda, this is the Gita. This universal message is time-invariant; it is time neutral, it is as relevant today as it was over 124 years ago.

The Indian National Congress pays rich and respectful tributes to our source of inspiration as we remember the enlightened words of a noble soul of India in Mahapurush Swami Vivekananda Ji.

The Congress President Smt. Sonia Gandhi has also paid rich tributes to Swami Ji on his 124th – 125th year address at Chicago which heralded the arrival of one of India’s greatest spiritual leaders and, therefore, September 11 is rightly commemorated as a Red Letter Day in India’s heritage.

Today, incidentally, it is a very happy coincidence – is also the day when Mahatama Gandhi used ‘Satyagraha’ for the first time, the phrase, the word “Satyagraha” in 1906 when he addressed Indians at Johannesburg and in a happy trinity of coincidences, in a happy tri-section of historical events, today is also the day when the father of the ‘Bhoodan Movement’ – the Gandhian Saint, Acharya Vinoba Bhave celebrates his birth anniversary. We pay homage to him. We pay homage to all of them but the bottom–line is that we expect the Prime Minister, who is our Prime Minister, this country’s Prime Minister – to not only preach, but we expect him to practice in letter and spirit. In letter and spirit, the messages, the theme, the true ‘Aatman’ of what Swami Vivekananda said. Unfortunately three years down the line of this Government, we are seeing the preaching, attaining every new heights of glory and prose, the practice is completely the opposite, attaining the depths of despair in real life India.

In 1921, Mahatma Gandhi visited Swami Vivekananda on his birthday at Vellore Math and he said, “I have gone through his verse very thoroughly and after having gone through them, the love that I had for my country became a thousand fold.” Rightly Swami Vivekananda personified the eternal energy of youth – Indian youth – and their restless incessant quest for truth. But you don’t insult him like this when surreptitiously you disobey the path shown by him. Do you really forget spirit, but do you even really in letter remotely, when you encourage a culture of hate, bigotry, narrow mindedness, parochialism, politics of prejudice and division, do you really in any sense of the word follow Swami Vivekananda in precept practice, sprit or action? This Government ‘s use and actions including views, are the diametric opposite of what the Mahapurusha like Swami Vivekananda preached espoused or represented.

I will give three examples, you known them very well but it is important to recall those examples in the context of Swami Vivekananda. Modi Government decides ‘what we wear, what we eat, where do we move, what we practice, what we do and how we live our lives.’ It has completely strangulated any kind of dissent and divergence of views. The recent incident of lynchings, the murder of free-thinkers, rationalists, dissenters is a grim reminder of the times we live in and I have briefed you just a couple of days ago on that.

Secondly, Shri Modi today also talked of respecting women. How can anybody have a view on that different from Shri Modi? Nobody can. His thoughts are, therefore, welcome, but I am very sorry and you will be the first to laud and applaud the PM, but unfortunately the actions of this Government are just the opposite. Every six minutes, a woman is raped in Delhi. Frankly, my day is spoilt when I see these children and one day later, a minor girl child, this is happening in the very capital of India under his nose and Dumka Jharkhand a BJP-ruled State,   a minor was gang raped by 12 men recently. It is too horrific to talk about.

Thirdly, the Modi Government and Shri Modi wax eloquent about Make-in-India. I would equally say Make-in-India is a synonym for employment. What is Make-in-India but employment? It is another word for jobs. You know very well the CMIE - not me, not you, not the BJP, not anybody else has published documents, that in one quarter of this year – 15 lakh jobs i.e. 1.5 million jobs have been lost. How lost, what lost, we discuss later because of demonetization but the fact is that 15 lakh jobs have been lost. The least number of jobs per year, in the last ten years, has been created by the BJP Government in these last three years. Never before in the last 10 years, have lesser jobs been created. Last quarter, 1 lakh jobs were created. 15 lakh is lost in the first quarter of January, last quarter 1 lakh jobs are created.

Fourthly, Shri Modi’s pet theme along with Make-in India is the ‘Swacch Bharat’ Mission. The Swacch Bharat Mission had a corner stone plan – ‘Swacchta’ because it is very important but ‘Swacchta’ does not come by picking broom and having television optics on it.  ‘Swacch Bharat’ corner stone was ‘Clean Ganga’. You know the amount of money and the amount of cleanliness Ganga has received in three years. Everything else which happened before Shri Modi was garbage, but let look only into Shri Modi’s time. ‘Clean India Mission’ sent the whole country on a toilet construction spree. You know what a tremendous amount of hype was created, a blitzkrieg of toilet construction. The basic point remains that 51% of our households in India, across India do not have an improved sanitation system. All the height and hoopla on one side - this new toilet truth is a sad truth. This new toilet truth is that most new toilets are using and are a dry pit toilet. There is no sanitation, there is no flushing. It is a dry pit toilet. As we all know Dry Pit toilets spreads maximum disease and encourages manual scavenging in remoter and rural areas. This is the truth. Lastly, we have seen what has happened to Skill India, Start up India and Stand up India. Unfortunately Skill India, Start up India and Stand up India have made ‘Fall Flat India’ as far as 26 are concerned. It is falling flat. You have also seen it in acknowledgement, in the Ministerial changes we have just seen a few weeks ago. The Investment sentiment, if it is so low, it is the lowest ever. There is a contradiction, how can you have Skill India, Start up India, Make in India jobs if the investment is the lowest ever.

Manufacturing Sector growth is 9 years’ lowest ebb. It is amazing. I must compliment the Prime Minister and his team that this Make in India hype and hoopla, and in 9 years the lowest ever. We never talked of Make-in-India but we did do and now you have 9 years lowest and GDP only in the last quarter is 5.7%. We were running minimum 8.5% but also 9.2%. We are now 5.7%. The lowest in comparison to same quarter earlier, the lowest in many quarters and I think unfortunately the worst news has not yet come. Let us hope, but unfortunately we will hear worse news in the next and next after quarter and lastly we know the farm distress and Agriculture. What abysmal situation is there? Instead of all this, preaching, we should just celebrate Vivekananda in spirit which is in practice in reality, at the grass roots.

डॉ. अभिषेक मनु सिंघवी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि, दुर्भाग्य की बात है कि मोदी जी जिस भारत के निर्माण की बात कर रहे हैं और प्रभावशाली वक्ता तो वो हैं ही, उस प्रभावशाली वक्ता के रुप में जो आपने आज भी सुना और हर वर्ष और बल्कि हर हफ्ते आप सुनते हैं, जिस भारत का वो निर्माण वो कर रहे हैं, ये दुखद प्रसंग है और दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि वो भारत विवेकानंद जी की सोच और विचारों से कोसों दूर था, कोसों मीलों दूर था। महापुरुष विवेकानंद जी का भारत सच, प्रगतिशीलता, उदारवादी सोच, शांति और सद्भावना वाला भारत था, आपसी वैमनस्य से मिलों दूर था।

आज का भारत मोदी जी का भारत या भविष्य का जो भारत बनाना चाह रही है मोदी सरकार, उतना ही दुर्भाग्यपूर्ण है वो संकीर्णता का भारत, वो आडम्बर और झूठ का भारत, वो संकुचित सोच का भारत, घृणा, कट्टरता और हिंसा के वातावरण से ओत-प्रोत भारत और मोदी जी ने आज भी चर्चा की युवा भारत की, नए भारत की, लेकिन युवा भारत, नया भारत सच में बेरोजगारी वाला भारत बन गया है, उसकी चर्चा उन्होंने नहीं की।

हम नतमस्तक हैं ऐसे स्वामी विवेकानंद जैसे महापुरुष के विषय में। हम 1893 वाले उनके शिकागो के address के सामने नतमस्तक हैं, हर भारतीय की छाती गौरव से बढ़ जाती है और भगवत गीता से स्वामी विवेकानंद जी ने quote किया था, उसको मैंने अंग्रेजी में quote किया था।

ये किसी समयकाल का संदेश नहीं है, ये सर्वकालिक है, टाईम न्यूट्रल है। कांग्रेस पार्टी, कांग्रेस अध्यक्ष, कांग्रेस उपाध्यक्ष इस 1893 के वर्ष की शुभता पर नतमस्तक हैं। ये एक बहुत ही जबरदस्त शुभ अवसर है कि एक ही तिथि पर एक ही दिन पर 3 ऐसी चीजें मिल रही हैं, इंटरसेक्शन हो रहा है। पहली बार इस दिन 1906 में महात्मा गाँधी जी ने सत्य पर आग्रह शब्द “सत्याग्रह” का प्रयोग किया Johannesburg में, भारतीयों से बात करते हुए, वार्तालाप करते हुए और आज ही आचार्य Vinobha Bhave जी की Birth Anniversary है, जो आप जानते हैं Bhoodan से किस प्रकार से उसका निर्माण किया, उसकी सोच की और जैसा माननीय प्रधानमंत्री जी ने सही कहा कि महापुरुष विवेकानंद जी का भी दिवस आज है, दुर्भाग्य की बात है माननीय प्रधानमंत्री जी आपके शब्दों, कथनी और करनी में जमीन-आसमान, आसमान और पाताल का फर्क है, सच्चाई ये है कि आपकी सरकार स्वामी विवेकानंद जी के शब्दों, उनकी आत्मा, उनके जो शब्दों का Spirit है, उसके ठीक विपरीत काम कर रही है।

आज प्रतिशोध की भावना, आपसी वैमनस्य की भावना, संकीर्णता द्वारा और साम्प्रदायिकवाद और एक सोच के द्वारा, विभाजन की राजनीति के द्वारा, दोषारोपण की राजनीति के द्वारा पूरा माहौल विवेकानंद जी के विचारों के बिल्कुल विपरीत किया जा रहा है, 180 डिग्री विपरीत। सच्चाई ये है कि आज मोदी सरकार, मोदी सरकार के समर्थकों, उनकी संस्थाओं के फलसफे के अंतर्गत हम क्या पहनते हैं, क्या खाते हैं, कहाँ जाते हैं, किससे बातचीत करते हैं, क्या बातचीत करते हैं, कैसे रहते हैं, अपने जीवन को कैसे व्यतीत करते हैं, उस विषय में स्वतंत्र सोच, स्वतंत्र कार्य असंभव है। असहमति, एक खुली सोच, rationalist का पूरा समुदाय, उनको फांसी दी जा रही है दिन-प्रतिदिन और इसके कई सारे उदाहरण – गौ-माता के नाम पर lynching से लेकर, हाल में जो मैंगलोर में हुआ उसका हमने विस्तार से आपके सामने विवरण रखा था, कुछ दिनों पहले इसी मंच से।

दूसरा उदाहरण महिलाओं का आदर, जो माननीय प्रधानमंत्री जी ने जिक्र किया, मैं नहीं समझता कि इस मुद्दे पर कोई दो राय हो सकती है, लेकिन आज जो भय का वातावरण है। आज आप बाहर जाईए, सैर कीजिए तो आपको अंजाने लोग आकर कहेंगे कि हम घबरा रहे हैं, अपने बच्चों को स्कूल भेजने से। दिल्ली को छोडिए, अभी आपने पढ़ लिया, इतनी भयानक भर्त्सना वाली चीज है कि बोलने में तकलीफ होती है, आपके कैमरों और सब चैलन पर देखने में, हमें तो तकलीफ होती है देखने में, हम तो चैनल बदल लेते हैं, इतनी ज्यादा तकलीफ की बात है। अभी दुमका, झारखंड में क्या हुआ - एक बहुत छोटी लड़की का 12 व्यक्तियों द्वारा बलात्कार किया गया, इन चीजों का आपके सामने विवरण करना पड़ता है, लेकिन दुख होता है और देश विचलित है इससे, देश प्रश्न कर रहा है, पूछ रहा है।  

तीसरा उदाहरण “मेक इन इंडिया”, मैं समझता हूं आपके और हमारे कान पक गए ये phrase सुन-सुन कर। 3 वर्ष में ये और 3-4 ऐसे phrase बार-बार सुने। “मेक इन इंडिया” का अगर पर्यायवाची शब्द दूं तो मैं रोजगार होगा। दो चीज तो है ही नहीं, एक ही चीज है। अब “मेक इन इंडिया” हमने तो, हम इतने अच्छे नहीं है जुमलों में, वास्तविकता है ये, मैं सही कह रहा हूं, हमें तो लगता है कि हमारी रोजगार की वृद्धि इनसे कई गुना ज्यादा थी, हमें तो “मेक इन इंडिया” के पार करना चाहिए था। तो हमारे पास तो टेलेंट नहीं है, उसके लिए मैं आपके सामने गलती मान रहा हूं, लेकिन माननीय मोदी जी ने इतना सुनाया आपको “मेक इन इंडिया” के बारे में, CMIE के published डाटा, एक क्वार्टर में जनवरी से मार्च के बीच में 15 लाख रोजगार गए हैं। सबसे पुरानी एक संस्था है जो सिर्फ आंकड़ों पर जाती है, जिसे राजनीति से मतलब नहीं। 1 लाख पिछले क्वार्टर में रोजगार बढ़ा है और 15 लाख पहले क्वार्टर में कम हुआ और मैं अभी समझता हूं कि आपने पूरी कहानी देखी नहीं है, ट्रैलर से भी कम देखा है देश में।

स्वच्छ भारत मिशन एक और जबरदस्त जुमला है, आपको बताया गया कितना और कितना अभियान किया और सही अभियान होना चाहिए टॉयलेट के विषय में, लेकिन क्या ये बताया गया कि 51% से ज्यादा जो टॉयलेट के नाम पर अभियान चलाया गया है, वहाँ पर Sanitation नहीं है, ‘dry-pit’ है। ‘dry-pit’ का मतलब कि बीमारी, अब सबसे ज्यादा जिसकी हमने भर्त्सना की है, जिसके बारे में हमने मृत्यु देखी हैं manual scavenging जिसमें होती हैं, वो ऐसे टॉयलेट हैं। तो सिर्फ आपको मोदी जी को प्रसन्न करना है, बीजेपी सरकार का आंकड़ा Full-Fill करना है और black board पर लिख दें कि मैंने इतने टॉयलेट बनाए हैं और टॉयलेट की सत्य अगर ये है तो ये कैसा स्वच्छ भारत अभियान है? स्वच्छता भारत की बहुत अहमियत है और हम उसके लिए प्रधानमंत्री जी का समर्थन करते हैं, लेकिन किसी फोटो कैमरे के सामने झाडू लेकर सफाई करने से भारत स्वच्छ थोड़े होता है?

अंत में वही रोजगार, मेक इन इंडिया से संबंधित एक और जुमला, Skill India, Start-up India, Stand up India मैं नहीं समझता कि कितने सारे जुमले हैं इसमें। अब मैं नहीं चाहता भारत के बारे में बोलना लेकिन आंकड़ों पर जाएं तो Skill India, Start up India, Stand up India, fall flat India हो गया है। अगर जुमलों के आधार पर चलिए, Manufacturing यानि उद्योग की ग्रोथ 9 साल में न्यूनतम है। 9.2 और अधिकतम साढे 8% से 7% हो गई है और इस क्वार्टर में नहीं, कई क्वार्टर में और लगभग पिछले 6 क्वार्टर में न्यूनतम ग्रोथ है। अगर ग्रोथ नहीं होगी तो रोजगार कहाँ होगा और अभी इसका पूरा प्रकोप कृषि में नहीं जोड़ा है। कृषि की हालत आप जानते हैं, कुछ मंत्री बदले गए हैं लेकिन जुमलेबाजी वैसी ही चलती है, भाषणबाजी वैसी ही चल रही है। तो मैं हाथ जोड़ कर निवेदन करुंगा कि ऐसे विवेकानंद जी जैसे महापुरुष के शब्दों का, शब्दों का नहीं तो अंतरआत्मा का पालन करें, ना कि ऐसे जुमलों का।

राजनाथ सिंह जी द्वारा दिए बयान पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में डॉ. सिंघवी ने कहा कि देखिए माननीय गृहमंत्री एक बहुत बड़े संवैधानिक पद पर हैं और मैं निजी रुप से उनके बारे में कुछ नहीं बोलना चाहता। लेकिन 2-3 पहलूओं पर मैं टिप्पणी करना चाहता हूं- पहला ये कि आज पालिवाला का एक बड़ा प्रसिद्ध वाक्य है कि जब आपके घर में आग लगी हो तो ये औचित्य नहीं होता है कि आप बैठकर ये निर्णय लें कि आपको बेडरुम को ड्राईंग रुम बनाना है या ड्रांईग रुम को कीचन बनाना है, आप पहले आग से लड़िए। आज जो कश्मीर में नाजूक हालात है, उस दौरान क्या आपने देश के समक्ष कोई भी व्यापक, दूरगामी हल रखा है, तो हम आपके साथ खड़े हैं, पूरी तरह से समर्थन करते हैं। आप हल का विपरीत कर रहे हैं। इससे आप सहमति बना रहे हैं, इससे आप लोगों को जोड़ रहे हैं, इससे आप लोगों को पास ला रहे हैं और इससे क्या आप कोई भी लगी हुई आग को बुझा रहे हैं, अगर ये है तो हमारा पूरा समर्थन हैं। हम समझते हैं विनम्रता से कहेंगे कि इसका विपरीत हो रहा है। ऐसे मुद्दों की बात करना इस वक्त जब आपकी केन्द्र सरकार और प्रदेश सरकार में कोई तालमेल नहीं हैं, coalition के दलों में कोई तालमेल नहीं है और जब जम्मू-कश्मीर में 3 वर्षों में तुलनात्मक रुप से उससे पहले 10 वर्षों के हिसाब से सबसे खराब आंकड़े प्रकाशित हे। चाहे वो मृत्यु के हों, आतंकवाद के हों, चाहें civilian casualties हों, आर्मी और सेना के हों, उस दौरान आपके पास ठोस हल शब्द नहीं सुनते हैं हम और हम 35-A की बात सुनते हैं, क्या ये जिम्मेवारी की चीज है?

एक अन्य प्रश्न पर कि जिस तरह से एक बच्चे की हत्या कर दी गई, अभिभावकों पर लाठी चार्ज किया गया और जो हालात पैदा हुए, उसको कैसे देखते हैं आप, डॉ. सिंघवी ने कहा कि मैंने तो कह दिया है कि ये ऐसा माहौल है कि सुबह उठकर हम चाय नहीं पी सकते हैं, अखबार पढ़कर। आपके चैनलों के माध्यम से व्यापक रुप से आपने जांच की है, हम चैनल नहीं देख पाते, क्या बच्चों के माता-पिता की हालत हुई है, कोई सोच नहीं सकता। ये क्या हो रहा है भारत की राजधानी के करीब? गुरुग्राम राजधानी के करीब ही है। मैं इस पर राजनीतिक दोषारोपण की बात नहीं कर रहा हूं लेकिन बात सही है कि असुरक्षा का जो माहौल है। आप सैर पर जाईए बाहर, कई लोग आते हैं और कहते हैं कि आप लोग सरकार में है, शासन में हैं, राजनीति में हैं, तो हमको भय है कि हमारे बच्चे स्कूल कैसे जाएंगे? दुमका, झारखंड में क्या हुआ, आप जानते हैं, दिन-दहाड़े एक ऐसी घटना हुई उस लड़की के साथ, तो ये प्रश्न है जिस पर प्रधानमंत्री जी की चुप्पी है। एकजुट होकर वातावरण बदलना, जोड़ना लोगों को, साथ लाना सहिष्णुता की तरफ वो बात नहीं हो रही है और मैं समझता हूं कि दुर्भाग्य है इस देश का कि एक तरफ इतनी बड़ी बातें होती हैं विवेकानंद जी जैसे महापुरुष के बारे में और दूसरी और सच्चाई में स्थिति दयनीय है, इतनी दुखद है और इतनी दर्दनाक है।

एक अन्य प्रश्न पर कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में हरियाणा सरकार, केन्द्र सरकार, प्रशासन सबको नोटिस जारी किया है, डॉ. सिंघवी ने कहा कि वो एक अलग प्रक्रिया है और ये एक अलग प्रक्रिया है। उच्चतम न्यायालय की कुछ सीमाएँ होती हैं, कोर्ट-कचहरी की सीमाएं हैं, वो जांच कर सकते हैं, तथ्य ला सकते हैं, Supervision कर सकते हैं, भय भी कर सकते हैं, प्रशासनिय यंत्र-तंत्र को, लेकिन पहली बात तो ये है कि तुंरत दिनों में, घंटों में जो सही कुसुरवार है और जो सही मल्टीपल कुसुरवार है, उनको पकड़ कर दंड करने की प्रक्रिया की शुरुआत और उसका 6 महीने में अंत। इससे कोई शांति नहीं होने वाली है उन मृत बच्चों के माता-पिता को लेकिन कम से कम ये तो न्यूनतम है और दूसरा उससे ज्यादा, बहुत ही महत्वपूर्ण है preventive, आज हर माता-पिता, राजनीतिक रंग का कोई मायने नहीं है इसमें, हर माता-पिता को भय लगा हुआ है आज, बड़े लोगों को सुरक्षा मिल जाती है, लेकिन आम आदमी को भय लगा हुआ है इसमें तुरंत दिखा कर एक्शन लेना होगा और जो भी मांगे हैं पूरी करनी चाहिए इसमें।

तीन तलाक पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में डॉ. सिंघवी ने कहा कि देखिए अब इस मामले का अंत होना चाहिए। इसमें अब कोई विवाद का स्कोप नहीं है। जो उच्चतम न्यायालय ने विषय किया है, जो विषय है -सीमित ट्रीपल तलाक एक तरीके से, ट्रीपल तलाक के और तरीके की बात नहीं हुई है जो मुख्य रुप से केस है, वो सीमित है, Focussed है और व्यापक है एक मुद्दे पर। उस मुद्दे पर मैं समझता हूं कि विवाद, जिरह बंद हो गई है। वो असंवैधानिक है, हमारे कानून के अंतर्गत है, संविधान के अंदर असंवैधानिक है और उसमें आपकी और मेरी कोई निजी राय मायने नहीं रखती। आप विवाद करते रहें, मैं समझता हूं लोग आपके साथ नहीं हो सकते हाँ ये आवश्यक है कि उच्चतम न्यायालय के निर्णय को जमीन पर परिवर्तित करना है क्योंकि कई चीजें आपकी पीठ के पीछे होती हैं, आपको मालूम ही नहीं पड़ती हैं और वही एक चुनौति हैं, हमें वहाँ देखना चाहिए, भविष्य में देखना चाहिए।

एक अन्य प्रश्न पर कि राहुल गाँधी जी यूएस के दौर पर हैं, क्या ये 2019 के चुनावों की तैयारी है, डॉ.सिंघवी ने कहा कि आपको इसका जवाब तब दिया जाएगा जब आप ये calculate करेंगे कि माननीय प्रधानमंत्री की तुलना में विपक्ष के उपाध्यक्ष .000 % से भी कम बाहर जाते हैं, लेकिन जैसे क्योंकि ये आदत हो गई है कुछ लोगों की इस पर टिप्पणी करना, मजाक उड़ाना, तो मैं आवश्यकता नहीं समझता इस पर जवाब देने की। प्रधानमंत्री जी तो लगता है दौरे पर ही रहते हैं। अगर एक बहुत उच्चस्तरीय चर्चा पर कोई व्यक्ति स्वतंत्रता अपनी जता कर पार्टी का पक्ष रखना, भारत का आईडिया बताना, विपक्ष की तरफ से भारत की क्या सच्चाई है, उसको प्रकाशित करने जाता है, तो मैं समझता हूं कि इस प्रकार से खिल्ली उडाना, टिप्पणी करना, बीजेपी वाले माहिर है इसमें। लेकिन हमें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री के बयान पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में डॉ. सिंघवी ने कहा कि उनका ये निजी मत हो सकता है, आप उनसे पूछिए क्या इसका अभिप्राय है। संवैधानिक पदाधिकारी हैं, उन्होंने सोच समझ कर कुछ कहा होगा, इसमें दो राय नहीं कि जो अलग-अलग विषयों में हम सुधार ला सकते हैं और कोई सकारात्मक सुझाव है तो हम बिल्कुल तैयार हैं, लेकिन आप जो पूरा नकारात्मक रुप से निकाल रहे हैं, वो आप पूछ कर आएं कि क्या है।

एक अन्य प्रश्न पर कि चुनाव से पहले अगर कोई मुख्यमंत्री सामूहिक तौर पर कुछ कहता है, तो इसका क्या मायने हैं, डॉ. सिंघवी ने कहा कि इन मुद्दों पर पार्टी ने बहुत गंभीरता से और बहुत गहराई में अभी हाल में उपाध्यक्ष की अध्यक्षता में ये चर्चा हो चुकी है और सब मामले शिंदे जी की रिपोर्ट के आधार पर भी चर्चित हो चुके हैं और निर्णय ले चुके हैं।

नीतीश कुमार जी के खिलाफ जनहीत याचिका दायर हुई है, क्या कहेंगे, डॉ.सिंघवी ने कहा कि मैं कोई विस्तार से टिप्पणी नहीं करुंगा क्योंकि ये कोर्ट के अंदर है और अभी हाल में नोटिस हुआ है और एक्टिव है। निश्चित रुप से जो मापदंड सब पर लागू होता है, वो बाकि सब पर भी लागू होना चाहिए। ये अलग बात है कि उत्तर प्रदेश और गुजरात में सैंकड़ों रैली के बाद हमने आज तक कोई आईटी नोटिस नहीं देखा, बीजेपी पर और ये अलग बात है कि लालू जी की रैली के एक हफ्ते बाद एक आईटी नोटिस आ गया। लेकिन जहाँ तक उच्चतम न्यायालय का सवाल है, सबका समान अधिकार है आरोप लगाने का और सबका समान अधिकार है परिणाम पाने का। और उच्चतम न्यायालय के अंतर्गत एक प्रक्रिया है और इस पर हमें कोई टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। 
 

On the question of reaction of the Congress Party on the statement of the statement of Home Minister on his visit to J&K regarding Article 35A, Dr. Singhvi said Home Minister is a very important functionary. I am not saying anything personally about him but I am reminded of Nani Palkhivala, who once said that, when your house is on fire, you don’t discuss whether you should convert your bed room into a drawing room or dining room into a kitchen. You first deal with the fire. At the moment Kashmir is in a very delicate situation. I do not understand and know whether it is the right time, opportune moment to  even talk about, leave aside the merits of an issue like this.

On all four parameters – civilians’ causalities cross border incidents, army deaths and terrorist incidents - Kashmir in three years has achieved the worst figures. After all Kashmir was never an easy situation,  but for 10 years did you have the same situation in Kashmir as you had during UPA time and during these three years’ time. In that scenario, if the Hon’ble Home Minister can achieve a solution, we would go out of our way to laud it, but is 35 years solution in the middle of all this? Is it going to create any joining, any consensus, and any conversions or is it going to create huge divergences when neither the State Government nor the Central Government are in sync. Within the State Government there appeared to be two Governments in J&K and in Srinagar. Within the Central Government and the State Government of the same color, of the same coalition there is absolutely no co-ordination.  So, I do not understand the purpose of this. If it is only to score a point over us, we will be the happiest if you to score a point over us, by choosing the same day to visit and we have announced two weeks ago but if you score a point over us, score a point for the Nation. The Congress Party is no problem. If you are able to over-shadow the Congress Party’s delegation, but, achieve a result. I am very sorry to say the opposite of a result is being done the by these facts.

On the question of the reaction of the Congress Party on the removal of Himachal Pradesh Congress Committee President, Dr. Singhvi said, only two things – you have to go to him and ask the true meaning of this statement.  

Secondly, if there is a constructive suggestion, there is always scope for improvement in every party and we are open to it and thirdly all such issues relating to Himachal Pradesh have very recently been discussed under the Chairmanship of the Vice President of the Party in context of the Shinde Committee detailed report and most of them have not only been analyzed, but settled.

             


Sd/-
 (S.V. Ramani)
Secretary,
Communication Deptt.,
 AICC 

Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap