| |

MEDIA

Press Releases

Highlights of the sound bite of Shri Manish Tewari

श्री मनीष तिवारी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि, कल 26 सितम्बर 2017 को NDA –BJP सरकार के 40 महीने पूरे होंगे और जैसे हमने सुबह भी निवेदन किया था कि हर सरकार का मूल्यांकन 5 केन्द्र बिंदुओं पर होता है। सबसे पहला साम्प्रदायिक सौहार्द, दूसरा राजनीतिक स्थिरता, तीसरा आंतरिक सुरक्षा, चौथा अर्थव्यवस्था और पाँचवा अंतर्राष्ट्रीय नीति या कूटनीति।
 

NDA – BJP की सरकार, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में, इन पाँचो केन्द्र बिन्दुओं पर चौखाने चित्त रही। पिछले 40 महीने में इस देश में साम्प्रदायिक सौहार्द के परखच्चे उड़ा दिए गए हैं। जो संघीय ढांचा है, उसके ऊपर निरंतर और लगातार आघात किया गया है। अरुणाचल, उत्तराखंड, गोवा, मणिपुर उसके जीते जागते उदाहरण हैं। आंतरिक सुरक्षा की परिस्थिति बहुत ही संवेदनशील है। चाहे जम्मू-कश्मीर की बात कर लें, चाहे पूर्वोत्तर की बात कर लें, चाहे जो नक्सल प्रभावित इलाकें हैं, उनकी ओर नजर घुमाएं।
 

जहाँ तक अर्थव्यवस्था का सवाल है, अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से NDA – BJP सरकार ने चरमरा कर रख दिया है। वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली इस बात का दावा करते हैं कि पिछले 40 महीनों में कोई घोटाला नहीं हुआ। सबसे बड़ा घोटाला तो नोटबंदी था, जिसने 124 करोड़ भारत के लोगों के ऊपर बेवजह बोझ डाला, भारत की अर्थव्यवस्था को, जो उसकी बढ़त की रफ्तार थी उसको पूरी तरह से पुर्णविराम लगा दिया और जो Informal sector है economy का उसको बिल्कुल तबाह करके रख दिया। जहाँ तक कूटनीति का सवाल है, विदेश मंत्री संयुक्त राष्ट्र महासंघ में जाकर पाकिस्तान को खरी-खरी सुनाती हैं, पर इसका एक और पहलू भी है कि ये वही सरकार है जिसके प्रधानमंत्री बिना निमंत्रण के पाकिस्तान गए थे, श्री नवाज शरीफ की पोती की शादी में शामिल होने के लिए और उसके वनस्पत भारत को पठानकोट का आतंकी हमला मिला।
 

चाहे पाकिस्तान हो, चाहे चीन हो, चाहे अमेरिका हो, चाहे रुस हो, जो यूपीए सरकार के दौरान भारत की कूटनीति को एक सुदृढ़ और सुचारु ढंग से चलाया गया था, उसको पिछले 40 महीनों में बिल्कुल अस्त-व्यस्त करके रख दिया है NDA – BJP की सरकार ने।
 

कालेधन की ये बात करते हैं, कि हमने कालाधन को लेकर कदम उठाए, कांग्रेस ने कालेधन को लेकर कोई कदम नहीं उठाया, UPA ने कोई कदम नहीं उठाया, इससे बड़ा और कोई झूठ नहीं हो सकता। जो सारा ढांचा था, कालेधन को वापस लेकर आने का, वो ढांचा UPA 2 के कार्यकाल में तैयार किया गया था। हम प्रधानमंत्री जी से पूछना चाहते हैं कि, अगर इन्होंने कालेधन के ऊपर कदम उठाए हैं, तो वो 15 लाख रुपए कहाँ हैं जो ये हर भारतीय नागरिक के बैंके अकाउंट में जमा कराने वाले थे?
 

तो कुल मिलाकर जो भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी और इनके 40 महीनों के शासन का लब्बोलबाब है, उसको एक वाक्य में सीमित किया जा सकता है कि, ‘मेरा भाषण ही मेरा प्रशासन है’। काम के नाम पर ये सरकार, NDA – BJP की सरकार, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में पूरी तरह से विफल रही है और एक भी उपलब्धि जो भारत के आम नागरिक को किसी भी तरह से कोई भी राहत पहुंचा सके, पीछले 40 महीने में ये एक भी उपलब्धि नहीं गिना सकते।

 

Shri Tewari said, tomorrow on the 26th of September 2017, the NDA-BJP Government would be completing 40 months in office. The essence of these 40 months can be summed up in one sentence, that the NDA-BJP Government, under Prime Minister Shri Narendra Modi, does not know how to govern this country. Every Government can be bench marked on five standards namely -

 

Social Cohesion

Political Stability

Internal Security

Economic Development

International Relations
 

On all these five bench marks, this Government has proven to be an utter failure. Social Cohesion is in shreds, Federalism has been repeatedly assaulted by this Government, Internal Security is in shambles be it Kashmir, be it the North East, be it the Naxalite Affected Areas. This Government has the proud privilege of actually shrinking the Indian economy. No Government in the past 70 years has actually shrunk the economic pie, as this Government has done in the past 40 months. All the economic indicators are in a free fall. Demonetization is the biggest scam which has been perpetrated on 124 crore people of this great land. It has completely wiped out the informal economy. The flawed implementation of the GST Act or the GST Tax, which the UPA or the Congress Party supported, has impacted job creation, has impacted the small and medium sector in a very adverse manner. A Government which had committed to creating 2 crore jobs annually, has not even created 2,000 jobs annually over the past three years.
 

On Foreign Policy, every critical relationship that India had carefully nurtured over the ten years of the UPA rule has been absolutely subverted. The Narendra Modi Government has failed to reach the global par dynamic. So eventually the performance of this Government can be summed up in one sentence – ‘Mera Bhashan Hi Mera Prashasan Hai’. Beyond that or beyond rhetoric, this Government has nothing to offer to the people of this country. There is not a single step which they can recount, which they have taken over the past 40 months, which has provided any kind of relief or succour to the ordinary people of India.
 

एक प्रश्न पर कि भाजपा ने कहा है कि विपक्ष बहुत तीखे शब्दों का प्रयोग करता है आलोचना करने के लिए, क्य़ा ये कांग्रेस की तरफ निशाना है, श्री तिवारी ने कहा कि, माननीय प्रधानमंत्री की कथनी और करनी में बहुत फर्क है और ये बहुत ही एक दुर्भाग्यपूर्ण बात है। 50 करोड़ की गर्लफ्रेंड, शमशान और कब्रिस्तान, जैम्स माईकल लिंडो,समाज के एक वर्ग के लिए पप्पी के शब्द का इस्तेमाल करना जिसका मैं हिंदी में तजुर्मा भी नहीं करना चाहता, ये हमारे शब्द नहीं हैं, ये माननीय प्रधानमंत्री जी के शब्द हैं। तो जहाँ तक उग्र और तीव्र भाषा का सवाल है, ये बेहतर रहेगा कि प्रधानमंत्री जी खुद अपने गिरेबान में झांक कर देखें और इस बात को महसूस करें, कि उनकी अपनी शब्दावली, पिछले एक दशक में कैसी रही।
 

एक अन्य प्रश्न पर कि प्रधानमंत्री ने इक्नोमिक एड़वाईजरी कौंसिल गठित की है, जो प्रधानमंत्री को आर्थिक मामलो पर उनको सलाह देगी और प्रधानमंत्री के आदेश पर काम करेगी, क्या कहेंगे, श्री तिवारी ने कहा कि पिछले 40 महिनों में भारत की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। जैसे हमने पहले भी कहा है कि 40 महिनों में इस सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि ये है कि इन्होंने भारत की अर्थव्यवस्था को छोटा कर दिया है, संकिर्ण बनाया है। चाहे वृद्धि दर की बात करें, चाहे Index of Industrial Production की बात करें, चाहे जो 8 Core Sectorsहैं economy के उसकी बात करें और सबसे बुनियादी सवाल जो नौकरी हैं, रोजगार हैं, रोजगार को पैदा करने की बात करें, ये सरकार पूरी तरह से विफल रही है। अगर प्रधानमंत्री जी इस बात को महसूस करते हैं कि हाँ विफलता हुई है, उनको साफ तौर पे इसको खड़े होकर कहना चाहिए। क्योंकि अगर आर्थिक विफलता नहीं होती, तो जो केन्द्रीय मंत्रीमंडल का फैरबदल हुआ था, उसमें Skill development Minister, श्रम के मंत्री और Medium or Small scale industry के मंत्री, तीनों को मंत्रीमंडल से हटाया नहीं जाता।
 

On the question that in BJP’s National Executive Meet, it has been said that with regard to Doklam issue, BJP is the only party that is actually working, Shri Tewari said there is a big gap between the Prime Minister’s rhetoric and the reality on ground. The fact is that the BJP is only an instrument of electoral mass and those electoral dividends are reaped by polarizing society. So, while the Prime Minister is entitled to make sanctimonious and preachy statements about the BJP being an instrument of mass welfare, but the fact is that the BJP is nothing more than an electoral instrument predicated on polarizing and dividing society for electoral gain.
 

So far as Doklam is concerned, it is a sensitive issue and the facts about Doklam and what really transpired as to how the crisis was allowed to escalate are all in the public domain and the people of this country are wise enough to judge the reality for what it is.
 

On the question related to the raids on Karti Chidambaram and his office premises, Shri Tewari said de-horse the ideological spin which the BJP has been attempting to put on to its non-performance, the fact is that the BJP’s ideology rests on three struts – the first is the Central Bureau of Investigation, the second is the Income Tax Department and the third is the Enforcement Directorate. All these three instrumentalities of the State are being abused, misused to the nth extent possible against their political opponents. So, therefore, the Finance Minister of India, his Government is setting a very dangerous precedence and when you sow the wind, you unfortunately end up reaping the whirlwind, and insofar as legal remedies are concerned, the fact remains that the former Finance Minister of India is far more an able Counsel than the present Finance Minister of India and he knows his legal remedies very well.
 

On the question of prevailing situation of undeclared emergency in the country and also the use of ‘Aadhar’, Shri Tewari said it is already an undeclared emergency in the country. So, therefore, insofar as emergency is concerned, we are already living under a spectre of a great evil which is stalking our land. Insofar as ‘Aadhar’ is concerned, the ‘Aadhar; matter in the light of the unanimous judgment of the Hon’ble Supreme Court in the privacy matter is currently being heard by the Hon’ble Supreme Court and we are fairly confident that the concerns of the citizens with regard to disclosure of private information is something which the Hon’ble Supreme Court will take on board while deciding the ‘Aadhar’ matter.
 

Shri Tewari further said the fact remains that the reference with regard to Right to Privacy emanated out of the ‘Aadhar’ matter. There was a Bench in the Hon’ble Supreme Court – a three Judge Bench - which was hearing the ‘Aadhar’ matter and because there were conflicting judgments with regard to the Right to Privacy is a legal right or a fundamental right; a reference was made to a Nine Judge Bench. They have unanimously ruled that the Right to Privacy is a fundamental right and in the light of this particular ruling, you will find that the ‘Aadhar’ matter will eventually get decided and I think most of the concerns that you have articulated are legitimate and valid concerns on behalf of citizens would actually end up getting addressed in that judgment.     
 

Sd/-

(S.V. Ramani)

Secretary

Communication Deptt.,

 AICC

Indian National Congress
24, Akbar Road, New Delhi - 110011, INDIA
Tel: 91-11-23019080 | Fax: 91-11-23017047 | Email : connect@inc.in
© 2012–2013 All India Congress Committee. All Rights Reserved.
Terms & Conditions | Privacy Policy | Sitemap